Thursday, September 29, 2011

Police Seminars: CBI Seminars/workshops: सीबीआई का इस महीने का कोर्स क्लेंडर...

◄October 2011► Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sep 25 26 Investigation of Homicide Cases including Custodial Crime and Capsule on Human Rights (4+1 Days) 27 28 29 30 Oct 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Investigation of Insurance Frauds (4+1 Days) Investigation Of Cyber Crime Cases (4+1 Days) 11 12 13 14 15 16 17 Investigation of Procurement and Contract Frauds (4+1 Days) Orientation Course for SsP/DISG (4+1 Days) Course on Special Crime (4+1 Days) 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 Investigation of Suicide/Homocide Cases (4+1 Days) Course On Anti-corruption (4+1 Days) Nov

Police Appointments: CBI : SHRI K.SALEEM ALI JOINS AS ADDITIONAL DIRECTOR, CBI....

Shri K.Saleem Ali, an IPS Officer of 1978 Batch (Manipur-Tripura Cadre) today took over as Additional Director in the Central Bureau of Investigation in New Delhi. Before joining CBI, he was Director General of Police in Tripura.
Shri K Saleem Ali Shri Ali has earlier held several important positions in Anti Corruption, Special Crimes, Administration, Special Unit & other Divisions / Zones in CBI from 1988 to 1999 and 2006 to 2009 including the post of Joint Director, DIG and SP. He has been associated with the investigations of a number of sensitive cases, including those entrusted to CBI by the Supreme Court and High Courts that ended in convictions of the accused persons. Shri Ali has held various positions in Tripura, as Superintendent of Police of North Tripura, South Tripura & West Tripura and in Special Branch. He has served as IGP (Armed Police, Operations and Law & Order). He has also served as IGP in Indo Tibetan Border Police at Dehradun & New Delhi. He was awarded Bronze, Silver and Gold Discs during his tenure in ITBP. Shri K.Saleem Ali, a Post Graduate in Chemistry and M.B.A (International Finance) is doing Ph.D in Conflict Management. He has been decorated with the Police Medal for Meritorious Service and the President's Police Medal for Distinguished Service. ***

WB Police: Police Revolt: पश्चिम बंगाल सरकार ने ली राहत की सांस, as IRB jawans end strike...

In a huge relief to the West Bengal government, agitating India Reserve Battalion (IRB) personnel -- engaged in anti-Maoist operations in Junglemahal -- withdrew their stir on Thursday evening. They were on hunger strike since Wednesday demanding, among other things, more leave and transfer from Junglemahal. The move followed a visit of DG (Armed Police) Gautam Mohan Chakrabarti, who assured them that their grievances would be considered.
Sources said the government had been badly shaken by the near-revolt of the state para-military force and suspected outside provocation. Alarmed, Chief Minister Mamata Banerjee decided to send Chakrabarti to Shilda in West Midnapore to quell the protest. "Things are normal now. They have withdrawn their hunger strike," Chakrabarti told The Indian Express from the IRB's Shilda camp. He said that he would submit a report to the state government on Friday. "No uniformed force can be allowed such an indisciplined act,'' Chief Secretary Samar Ghosh said. Trouble started last week when 13 jawans of the Shilda camp were sent for security duty in Naxalite-affected Junglemahal. The jawans said the situation there required more forces.
When their request was refused, they took leave without taking permission. The authorities then cancelled their leave and issued show-cause notices against them. This prompted about 50 Shilda jawans to start a hunger strike. They demanded more leave, transfer from Junglemahal, promotions and more service facilities. Raising slogans, they demanded that either the chief minister or her representative come and talk to them. In an unprecedented move, they covered their faces and held press conferences. Senior officers were even stopped from entering the camp.

Maharastra Police: Police Achievements: महिलाओं ने फिर दिखाया दम, उज्जवला पवार बनी पहली डिस्ट्रिक्ट गर्वनमेंट प्लीडर..

PUNE: The row over the appointment of the district government pleader (DGP) and public prosecutor (PP) has finally come to an end with the state law and judiciary department nominating lawyer Ujjwala Pawar for the coveted post. Pawar on Friday took charge of her new appointment from the outgoing DGP Sadanand Deshmukh. She is the first woman officer to become a DGP. Pawar was earlier the additional public prosecutor (APP).
The issue of nominating the DGP had been pending with the government since the last two years. There were several prosecutors in the race for the post. The decision to appoint Pawar was finally considered by the department on August 30. Pawar holds a degree in commerce and has done masters in law. She started practicing at civil and criminal law in 1987. She was appointed as APP in 2000. Pawar has secured conviction in a number of sensational murder cases like, Dr Deepak Mahajan, hotelier Chandrakant Khaire, call centre employee Vidya Ghorpade and her son. She has been appointed as a special public prosecutor to conduct trial in organised crime cases under the Maharashtra Control of Organised Crime Act. She is also representing MSEDCL as a special prosecutor at Ichalkaranji. Pawar secured 17 convictions in 2011. Her appointment as the DGP is for three years. Her priority as head of the prosecutors in the district is to improve the conviction rate. The DGP plays a key role in giving advice to top government officers. Meanwhile, Vidya Mishra took charge as the new registrar of the district and sessions court on Friday.

Maharastra Police: Police Achievements: महाराष्ट्र पुलिस एकेडमी के 106 साल के इतिहास में पहली बार रचा इतिहास, महिला ट्रेनी PSI को मिली Sword of Honour....

IGREW up in Shivajinagar police line. The best thing my father did was he always told me the job of cop is an opportunity to serve the country and made me believe I can be a police officer if I work hard,” said a proud Kalpana Sawant, the first woman in the history of 106 years of Maharashtra Police Academy in Nashik to be awarded the Sword of Honour, given to the best trainee police sub-inspector in the batch.
Kalpana (23), who joined the Pune police as a staffer through a recruitment drive in 2006, said, “I always aspired to be an officer. After Class XII, I joined as a police staffer because the drive was on and I met all requirements. After serving for three years, I decided to pursue a degree in political science and simultaneously prepare for competitive exam for police sub-inspector’s post.” Kalpana was awarded the Sword of Honour at the passing out parade of the Maharashtra Police Academy on Thursday. On Saturday, she was felicitated in Pune by DGP Ajit Parasnis. In 2010, Kalpana not only cracked the exam in the first attempt but also stood second among all girls who qualified. Her father Bhausaheb Sawant is an assistant sub-inspector with Swargate police and elder brother is a constable at Vishrantwadi police station. Her mother is a homemaker. The family is from Dingale village in Sawantwadi. “But I was born and brought up in Pune and attended Apte Prashala. My higher secondary education till Class XII was at Modern College. I completed BA in political science externally from the University of Pune and am pursuing MA in the same subject.”

Maharastra Police: कयासों पर लगा विराम, K. Subramaniam होंगे महाराष्ट्र के नए DGP...

The state’s senior-most Indian Police Service officer K Subramaniam has been appointed as the state's new police chief. The state home department on Monday cleared the way for his appointment as the state’s director general of police (DGP) and he will replace Ajit Parasnis, who
retires on September 30. Subramaniam, currently the director general of the anti-corruption bureau, belongs to the 1976 IPS batch. Known for his integrity, Subramaniam is one of the most respected officers in the force. He was born in 1952 in Hyderabad, and after completing Masters in in Zoology from Sri Venkateshwara University at Tirupati, he joined the Maharashtra cadre of the IPS in 1976. His first posting in the state was as additional superintendent of police, Islampur. After this, as superintendent of police, he was posted at Satara, Chandrapur and Pune. He served in the Central Bureau of Investigation, on deputation, as a deputy general of police. He was then posted as the additional commissioner of police (south region). Subramaniam has also served as a principal secretary in the state home department before he was transferred to the ACB two years ago.

Wednesday, September 28, 2011

Police Directory : Orissa: ओडिसा IPS अधिकारियों की डायरेक्टरी...

As On 01-07-2011 INDIAN POLICE SERVICE Sl. No. Name/Qualification, Date of Birth/ Home District (State), Community, I.D.Code No. Recruitment Source, Allotment Year/ Appointment Date/ Confirmation Grade & Date thereof Present Post or Position Station & Date thereof Remarks/ Pay Scale 1 Shri M.M. Praharaj M.A. 28 -2 -1954 Cuttack (Orissa) I.D.No. 19761021 R.R. 1976 14-11-1976 Jr.Scale15-11-1978 15-11-1978 DG & IG of Police, Orissa , Cuttack 30-09-2008(F.N.) Cadre 2 Shri A.K. Upadhyaya M.Sc.(Math.)AIFC 12 -12 -1952 Bhojapur (Bihar) I.D.No. 19761047 R.R. 1976 29-11-1976 Jr.Scale29-11-1978 29-11-1978 Officer without duty , 01.06.2011 3 Shri Anup Ku. Patnaik M.Sc(Phy.), LL.M. 15 -2 -1952 Cuttack (Orissa) I.D.No. 19771008 R.R. 1977 12-11-1977 Jr.Scale13-11-1979 13-11-1979 Director-Cum-DG & IGP Vigilance,Orissa , Cuttack 20-12-2008 Ex-Cadre 4 Shri Prakash Mishra M.A.(Eco), LLB 29 -2 -1956 Puri (Orissa) I.D.No. 19771014 R.R. 1977 11-11-1977 Jr.Scale12-11-1979 12-11-1979 National Investigation Agency , On Central Deputation 5 Shri Sanjeev Marik M.A. (Hist.) 18 -12 -1955 Goda ( Jharkhand) I.D.No. 19811027 R.R. 1981 2-12-1981(A.N.) Jr.Scale19-6-1984 19-6-1984 Addl. D.G.P. Headquarters, Orissa , Cuttack 30.05.2011 Cadre 6 Shri V. Thiagrajan M.A.(Eng.) 31 -10 -1952 Tamilnadu I.D.No. 19811033 R.R. 1981 3-12-1981(A.N.) Jr.Scale4-12-1983 4-12-1983 Addl. DGP Training, Orissa , Bhubaneswar 30.05.2011 Cadre 7 Shri B.K. Behera M.A.(English) 10 -10 -1957 Kalahandi (Orissa) I.D.No. 19821025 R.R. 1982 15-12-1982(F.N.) Jr.Scale15-12-1984 15-12-1984 Addl. DG of Police, Fire Service & C.G. Home Guard , 20-12-2010 Ex-Cadre 8 Shri S.L. Mukherjee M.A. (Pol.Sc.), M.Phil. 10 -9 -1956 Sambalpur (Orissa) I.D.No. 19821032 R.R. 1982 15-12-1982(F.N.) Jr.Scale15-12-1984 15-12-1984 S.P., Computer , Bhubaneswar 28-2-1996 Ex-Cadre 9 Shri Gurubachan Singh B.A., LL.B. 14 -12 -1958 Patna (Bihar) I.D.No. 19841007 R.R. 1984 28-08-1984(F.N.) Confirmed28-08-1986 28-08-1986 Joint.Director, IB HQrs , New Delhi On Central Deputation w.e.f.21.08.1990 10 Shri Ramesh Prasad Singh B.A. (Hons) 4 -11 -1958 Muzaffarpur (Bihar) I.D.No. 19841054 R.R. 1984 17-12-1984(F.N.) Confirmed14-12-1987 14-12-1987 Director-cum-Additional D.G.P, Intelligence, Orissa , Cuttack 25-06-2010 Cadre 11 Shri Kanwar Brajesh Singh M.Sc.(Botany) 15 -5 -1959 Balia (U.P.) I.D.No. 19851042 R.R. 1985 23-12-1985 Jr. Scale23-12-1987 23-12-1987 IG(Trg),ITBP , 23.09.2005(F.N) On Central Deputation 12 Shri Abhaya M.A. 30 -6 -1961 East Champaran(Bihar) I.D.No. 19861007 R.R. 1986 15-12-1985 Confirmed on 15-7-1989 Addl. D.G of Police C.I.D, C.B, Orissa , Cuttack 23.05.2011 Cadre 13 Dr. Rajendra Prasad Sharma M.B.B.S 15 -5 -1960 Rajastan I.D.No. 19861020 R.R. 1986 15-12-1986 Confirmed on 29-6-1989 I.G of Police, National Security Guard (N.S.G), B-Block, 12th Floor, C.G.O Complex, Lodhi Road, New Delhi. New Delhi , 06.09.04(F.N) On Central Deputation w.e.f 06.09.04 P.B.-4+GP Rs 10,000 14 Shri Pradeep Kapur B.E (Mech. Engg.) 30 -11 -1962 Chandigarh (Panjab) I.D.No. 19861024 R.R. 1986 25-08-1986 Confirmed on 25-8-1988 Addl. D.G of Police, H.R.P.C , Cuttack 25.05.2011 Cadre 15 Shri Bijay Kumar Sharma M.A.(History) Certificat Moyen(French) Graduate Study(Hopkins, USA) 8 -10 -1962 Mayurbhanj (Orissa) I.D.No. 19861038 R.R. 1986 15-12-1986 Confirmed on 15-08-1988 Commissioner of Police, Bhubaneswar-Cuttack , Bhubaneswar 07-05-2008 Cadre 16 Shri M.Nageswar Rao M.S.C (Chemistry) 6 -7 -1960 Warangal (AP) I.D.No. 19861059 R.R. 1986 15-12-1986 Confirmed on 15-08-1988 Addl. D.G of Police, S.A.P , Bhubaneswar 24.05.2011 Cadre 17 Shri Shyam S. Hansdah B.Sc.(Hons) 21 -10 -1953 Mayurbhanj (Orissa)(S.T.) I.D.No. 19861084 R.R. 1986 15-12-1986 Confirmed on 2-7-1989 Director, State Forensic Science Laboratory Bhubaneswar/ Director SCRB & IGP , Bhubaneswar 24.05.2011 Cadre 18 Shri Sunil Kumar Bansal B.Com,LL.B, CA 17 -6 -1962 Jaipur (Rajastan) I.D.No. 19871003 R.R. 1987 15-12-1987 (F.N) Confirmed on 15-12-1989 Joint Director, I.B. , New Delhi 02.06.2006 On central Deputation w.e.f 26-9-1994 19 Shri Sunil Roy M.A (History) 4 -5 -1960 Patna(Bihar) I.D.No. 19871046 R.R. 1987 24-8-1987 (F.N.) in I.P.S24-8-1989 I.G of Police, C.I.S.F, Patna Patna , 02.06.2006 Central Deputation to Govt. of India w.e.f 09.08.04 P.B.-4+GP Rs 10,000 20 Shri Surendra Panwar M.A LL.B 6 -8 -1961 Maheendragarh, Rewari(Haryana)(S.C.) I.D.No. 19871088 R.R. 1987 4-9-1987 in I.P.S4-9-1989 4-9-1989 IG of Police,Vigilance , 25.09.2009 Cadre 21 Shri Gopabandhu Mallick M.A 5 -1 -1955 Balasore (Orissa)(S.C.) I.D.No. 19871091 R.R. 1987 26-12-1988 in I.P.S26-12-1990 26-12-1990 I.G.P., Investigation,Orissa, OHRC , Bhubaneswar 09.04.2010 Ex-Cadre 22 Shri Satyajit Mohanty M.Sc (Geology),LLB, Master of Human Rights Degree 3 -8 -1961 Bhubaneswar, Khurda,Orissa I.D.No. 19881016 R.R 1988 25-8-1988(F.N) in I.P.S25-8-1990 25-8-1990 On Study Leave , Cadre 23 Shri Manoj Kumar Chhabra M.A. (Phylosophy) 10 -10 -1963 Amritsar (Punjab) I.D.No. 19881023 R.R. 1988 25-8-1988 Director BPR & D,New Delhi , New Delhi 26.10.2009 On Central Deputation w.e.f 05.05.04 24 Shri M. Akhaya M.Sc., M.Phil (Geology) 27 -11 -1961 Ganjam (Orissa) I.D.No. 19881039 R.R. 1988 25-8-1988 in IPS25-8-1990 25-8-1990 I.G. of Police, Personnel, Orissa, , Cuttack 30.06.2010 Cadre 25 Shri Santosh Kumar Upadhaya M.Sc. (Tech)(Applied Geology) 25 -4 -1963 Balasore (Orissa) I.D.No. 19881049 R.R. 1988 25-8-1988 in IPS25-8-1990 25-8-1990 I.G. of police, Vigilance, Orissa , Cuttack 29.06.2010 Ex-Cadre 26 Shri Binyananda Jha M.Phil (Sociology) 12 -3 -1962 Bhagalpur (Bihar) I.D.No. 19881059 R.R. 1988 25-8-1988 FN IPS12-12-1990 12-12-1990 Joint Director,I.B, S.I.B, Imphal , 04.04.2007 On Central Deputation 27 Shri Arun Kumar Ray M.A. (Eco.) 7 -4 -1965 Calcutta (West Bengal)(S.C.) I.D.No. 19881068 R.R. 1988 21-8-1989 IPS24-3-1992 24-3-1992 IG of Police, Intelligence, Orissa, , Cuttack 05.07.2010 Cadre 28 Shri Pranabindu Acharya M.Sc. (Tech) Applied Geology, M.Phil 27 -5 -1964 Balasore (Orissa) I.D.No. 19891003 R.R. 1989 21-8-1989 FN IPS29-9-1991 29-9-1991 I.G. of Police, Prisons & Director Correctional Services, Orissa , Bhubaneswar 01.07.2010 Ex-Cadre 29 Shri Amrit Mohan Prasad M.Tech. 22 -8 -1965 Patna (Bihar) I.D.No. 19891028 R.R. 1989 20-8-1990 FN IPS19-2-1993 19-2-1993 I.G. of Police, Vigilance, Orissa , Cuttack 27.05.2011 Ex-Cadre 30 Smt. B. Radhika M.Sc. 4 -7 -1964 A.P. I.D.No. 19891055 R.R. 1989 21-8-1989 IPS26-9-1992 26-9-1992 Deputy Director, N.C.R.B, M.H.A., New Delhi , New Delhi 06.12.2010 Central Deputation 31 Shri Sidhartha Mahadu Narvane M.Sc. (Horticulture) 23 -6 -1965 Purtham (Maharasthra)(S.C.) I.D.No. 19891074 R.R. 1989 21-8-1989 IPS24-3-1992 24-3-1992 IG of Police, Railways, Orissa , Cuttack 25.05.2011 Cadre 32 Shri Y.B. Khurania B.Com., LL.B. 9 -3 -1966 Haryana I.D.No. 19901006 R.R. 1990 20-8-1990 IPS25-2-1993 25-2-1993 IG of Police, Operation , Bhubaneswar 27.05.2011 Cadre 33 Shri Sudhansu Sarangi MSc.(Inv. Psy.) 13 -7 -1968 Dhenkanal (Orissa) I.D.No. 19901007 R.R. 1990 15-9-1991 IPS21-10-1993 21-10-1993 Chairman-cum-Managing Director,Orissa,Police Housing &Welfare Corporation Ltd. , Bhubaneswar 03.07.2009 Ex-Cadre 34 Shri Arun Kumar Sarangi M.A.(Pol. Sc.) 25 -7 -1965 Bolangir (Orissa) I.D.No. 19901008 R.R. 1990 15-9-1991 IPS21-10-1993 21-10-1993 IG of Police, Law & Order, Orissa, Cuttack , 31-12-2008 Cadre 35 Shri Mahendra Pratap M.A. 1 -1 -1961 Ajamgarh (U.P.)(S.C.) I.D.No. 19901078 R.R. 1990 15-9-1991 IPS IG of Police,Fire Service & Home Guard, Orissa, , Cuttack 30.04.2010 Cadre 36 Shri Debasis Panigrahi M.A.(Pol.Sc)(M. phil) 29 -8 -1965 Balasore (Orissa) I.D.No. 19911021 R.R. 1991 15-9-1991 Special Secretary to Govt. Home Department , Bhubaneswar 27.05.2011 Cadre 37 Shri Lalit Das B.E. (Engg), M.Tech. 5 -7 -1964 Rourkela (Orissa) I.D.No. 19921015 R.R. 1992 11-10-1992 IPS I.G. of Police, Modernisation, Orissa , Cuttack 27.05.2011 Cadre 38 Smt.Sapna Tewari B.A.(Hons), MBA 28 -4 -1966 Jeypur (Rajasthan) I.D.No. 19921067 R.R. 1992 29-12-1992 Deputy Director,I.B. Headquarters New Delhi , 17.12.2009 On Central Deputation to Govt. of India from 1.12.1998. P.B.-4+GP Rs 10,000 39 Shri S.K. Nath M.Tech. 1 -7 -1967 Rourkela (Orissa) I.D.No. 19931022 R.R. 1993 4-9-1994 I.G of Police, C.I.D C.B, Orissa , Cuttack 25.05.2011 Cadre 40 Shri Vinaytosh Mishra B.Sc(Engg.) 3 -11 -1966 Madhubani (Bihar) I.D.No. 19931027 R.R. 1993 5-9-1993 D.I.G. Of Police , CISF, Bokaro , 03.11.2008 Central Deputation 41 Shri Raosheb Punjabrao Koche M.A. 1 -8 -1968 Amarabati (Maharasthra)(S.C.) I.D.No. 19931064 R.R. 1993 5-9-1993 I.G.P (N.R.) , Sambalpur 25.05.2011 Cadre 42 Shri Sanjeeb Panda M.Tech. 7 -7 -1968 Cuttack (Orissa) I.D.No. 19941010 R.R. 1994 3-9-1995 D.I.G. of Police, Intelligence, Orissa , Cuttack 03.09.2010 Ex-Cadre 43 Shri Yeswant Kumar Jethwa B.E. (Electronic Engg.) 17 -4 -1968 Bombay (Maharasthra)(S.C.) I.D.No. 19941064 R.R. 1994 4-8-1994 D.I.G. of Police, Western Range , Rourkela 29.06.2010 Cadre 44 Shri R.K. Sharma M.Com., C.A. 22 -9 -1966 Rajasthan I.D.No. 19951024 R.R. 1995 3-9-1995 D.I.G of Police (S.R) , Berhampur 25.12.2009 Cadre 45 Smt. Ritu Arora M.A.(Pol. Sc.) 13 -8 -1970 Lucknow (U.P.) I.D.No. 19951036 R.R. 1995 4-9-1995 Addl Commissioner of Police, BBSR-CTC , Bhubaneswar 24.12.2009 Cadre 46 Shri S.K. Priyadarshi B.Tech. 29 -5 -1969 Khurda (Orissa) I.D.No. 19951041 R.R. 1995 3-9-1995 D.I.G of Police S.W.R. , Koraput 29.08.2010 Cadre 47 Dr. Santosh Bala M.B.B.S. 15 -9 -1969 Ghaziabad (U.P.)(S.C.) I.D.No. 19951042 R.R. 1995 3-9-1995 D.I.G of Police, N.C.R , Talcher 30.05.2011 Cadre 48 Shri P.S. Ranpise M.Tech.(Elect.) 9 -5 -1968 Maharasthra(S.C.) I.D.No. 19951065 R.R. 1995 28-12-1995 D.I.G of Police, Personnel, Orissa , Cuttack 25.05.2011 Cadre 49 Shri S.K. Palsania B.E. (Hons) 13 -7 -1968 Jaipur (Rajasthan) I.D.No. 19961004 R.R. 1996 5-9-1996 D.I.G,CBI,Anti-Corruption Branch , New Delhi 01.04.2010 Central Deputation w.e.f. 12/07/2006 50 Shri Arun Bothra B.A. 16 -11 -1968 Jaipur (Rajasthan) I.D.No. 19961039 R.R. 1996 7-9-1997 D.I.G S.C.B., CBI, Kolkata , Kolkata 30.07.2010 Central Deputation 51 Ms.Sunita Kakran M.A., M.Phil 7 -9 -1969 Delhi (S.C.) I.D.No. 19961075 R.R. 1996 5-9-1996 Dy. Director, I.B.,MHA, , New Delhi 03.05.2010 Central Deputation 52 Shri S.K. Singh B.A. (Hons) 8 -1 -1965 Bihar I.D.No. 19961079 R.R. 1996 5-9-1996 DIG, CBI , New Delhi 02.08.2010 Central Deputation 53 Shri D.K. Pattanayak M.A.(Sociology) 21 -12 -1971 Bolangir (Orissa) I.D.No. 19971027 R.R. 1997 7-9-1997 S.P. , Rourkela 13.06.2009 Cadre 54 Shri A.K. Panigrahi M.Sc(Ag) 1 -7 -1971 Ganjam (Orissa) I.D.No. 19971046 R.R. 1997 25-8-1997 (FN) D.I.G of Police, S.A.P, Orissa , Cuttack 06.06.2011 Cadre 55 Shri K.D.Sambhaji B.E. (Computer) 24 -2 -1968 Maharasthra(O.B.C.) I.D.No. 19971013 R.R. 1997 7-9-1997 D.I.G of Police, Central Range , Cuttack 30.05.2011 Cadre 56 Shri Sanjay Kumar B.A. (Hons) 25 -9 -1969 Muzaffarpur (Bihar)(O.B.C.) I.D.No. 19971074 R.R. 1997 7-9-1997 D.I.G of Police, Eastern Range , Balasore 30.05.2011 Cadre 57 Smt. Rekha Lohani M.A. (Eco.) 22 -2 -1973 New Delhi(S.C.) I.D.No. 19971075 R.R. 1997 25-8-1997 Addl. Commissioner of Police, Commissionerate,BBSR-CTC , Bhubaneswar 24.05.2011 Ex-Cadre 58 Shri Amitabh Thakur B.A. (Hons) 11 -8 -1972 Darbhang (Bihar) I.D.No. 19981014 R.R. 1998 7-9-1998 S.P., CBI, EOW, , Mumbai 13.08.2008 Central Deputation 59 Shri Dayal Gangwar B.A. (Hons) 6 -2 -1972 Barreilly (U.P.)(O.B.C.) I.D.No. 19981053 R.R. 1998 28-12-1998 S.P. , Jharsuguda 30.05.2011 Cadre 60 Mrs.N.B. Bharathi M.A. (Pol.Sc.) 29 -6 -1968 Karnataka(O.B.C.) I.D.No. 19981065 R.R. 1998 7-9-1998 Joint Deputy Director, I.B., , New Delhi 15.01.2009 Central Deputation 61 Shri Rajesh Kumar M.Sc. (Phy.) 15 -3 -1971 Lucknow (U.P.)(S.C.) I.D.No. 19981073 R.R. 1998 7-9-1998 S.P. , Balasore 29.12.2009 Cadre 62 Shri Suresh Singh Dev Dutta Singh M.A. 1 -3 -1971 Banda (U.P.) I.D.No. 19981040 R.R. 1998 7-9-1998 S.P. , Jagatsinghpur 13.06.2009 Cadre 63 Shri Ravi Kant B.Sc. (Hons), Phy. 5 -1 -1972 Bhagalpur (Bihar)(S.C.) I.D.No. 19981079 R.R. 1998 7-9-1998 S.P., CBI , New Delhi 23.09.2008 Central Deputation 64 Shri Ghanashyam Upadhyay M.A(Hist.) 10 -8 -1973 U.P. I.D.No. 19991006 R.R. 1999 20-9-1999 S.P., CBI , New Delhi 25.08.2008 Central Deputation 65 Shri Prateek Mohanty Master of Intl. Business, Orissa 15 -5 -1973 Orissa I.D.No. 20001004 R.R. 2000 4-9-2001 S.P, Vigilance , Berhampur 14.01.2010 Cadre 66 Shri Yatindra Koyal M.Tech. 18 -8 -1973 Mandsur (M.P.)(O.B.C.) I.D.No. 20001029 R.R. 2000 2-9-2001 S.P-1, CBI, ACB, Bhopal , 01.09.2008 Central Deputation 67 Ms. S.Shyni M.A. (Eng.) PG Diploma Communication & Journalism 3 -7 -1975 Kerala(O.B.C.) I.D.No. 20011024 R.R. 2001 2-9-2001 S.P.,C.B.I , Kochi 25.08.2009 Central Deputation 68 Dr.(Mrs)Soorya Thankappan M.B.B.S. 16 -4 -1976 Kerala(S.C.) I.D.No. 20011033 R.R. 2001 26-12-2001 S.P., , Mayurbhanja 15.06.2011 Cadre 69 Shri S. Praveen Kumar Company Secretary 7 -7 -1973 Hyderabad (A.P.) I.D.No. 20021008 R.R. 2002 2-9-2002 Deputy Commissioner of Police , Cuttack 30.05.2011 Cadre 70 Shri Amitendra Nath Sinha LL.B. 10 -7 -1974 Bihar I.D.No. 20021019 R.R. 2002 2-9-2002 S.P , Puri 30.05.2011 Cadre 71 Shri Narasingha Bhol B.Tech. 18 -3 -1971 Cuttack (Orissa)(O.B.C.) I.D.No. 20021024 R.R. 2002 23-12-2002 S.P. , Kendrapada 04.06.2010 Cadre 72 Shri Gajbhiye S. K. Iswardas M.A. 14 -9 -1968 Nagpur (Maharasthra)(S.C.) I.D.No. 20021030 R.R. 2002 23-12-2002 S.P , Dhenkanal 10.11.2008 Cadre 73 Smt. Kavita Jalan B.A., LL.M. 31 -1 -1977 U.P. I.D.No. 20031006 RR 2003 01-09-2003 S.P. , Baragarh 03.06.2011 Cadre 74 Shri Himanshu Kumar Lal B.A., MBA 10 -10 -1974 Bihar I.D.No. 20031023 RR 2003 01-09-2003 S.P , Rourkela 03.06.2011 Cadre 75 Shri Nikhil Kumar Kanodia B.A., (Economics Hons) 9 -9 -1978 Delhi I.D.No. 20031024 RR 2003 01-09-2003 S.P , Sambalpur 31.05.2011 Cadre 76 Shefeen Ahamed K. B.Tech 13 -8 -1976 Kerala I.D.No. 20031028 RR 2003 01-09-2003 S.P. , Berhampur 25.12.2009 Cadre 77 Shri Sanjay Kumar Kaushal B.Tech. 12 -3 -1977 Chhatisgarh(S.C.) I.D.No. 20031037 RR 2003 22-12-2003 S.P. , Nuapada 13.06.2011 Cadre 78 Shri Ashish Kumar Singh B.A(Socio.) 5 -3 -1980 Ambdkarnagar(U.P) I.D.No. 20041030 R.R. 2004 06-09-2004 (FN) SP., , Keonjhar 01.01.2010 Cadre 79 Shri Deepak Kumar M.B.B.S 1 -6 -1979 Bijnor(U.P) I.D.No. 20041038 R.R. 2004 27-12-2004 SP., , Jajpur 03.06.2011 Cadre 80 Shri Satyabrata Bhoi MA(Eco.) 26 -3 -1975 Kalahandi, Orissa I.D.No. 20041049 R.R. 2004 27-12-2004 S.P. , Angul 04.01.2010 Cadre 81 Shri Nitinjeet Singh BE 29 -9 -1978 SAS Nagar ( Mohali), Punjab I.D.No. 20041081 R.R. 2004 09-06-2004 Deputy Commissioner of Police , Bhubaneswar 01.06.2011 Cadre 82 Shri Sanjeev Arora Chartered Accountant 2 -9 -1981 Amritsar (Punjab) I.D.No. 20051027 R.R. 2005 22.08.2005 S.P , Sundargarh 29.05.2011 Cadre 83 Shri Jai Narayan Pankaj B.A. 3 -5 -1976 Bihar(O.B.C.) I.D.No. 20051057 R.R. 2005 22.08.2005 S.P., , Kandhamal 30.05.2011 Cadre 84 Ms. Amrita Dash M.A.(Sociology), Mphil, 5 -9 -1980 Orissa I.D.No. 20061089 R.R. 2006 S.P, Vigilance , Bhubaneswar 03.03.2011 Cadre 85 Anoop Krishna MSc.(Fisheries) 31 -5 -1981 Kerela I.D.No. 20061098 R.R. 2006 S.P, (I/C) , Rayagada 30.12.2009 Cadre 86 Shri Anup Ku. Sahoo M.A.(Eco.), Mphil 1 -4 -1978 Orissa(O.B.C.)O.B.C. I.D.No. 20061244 R.R. 2006 S.P, (I/C) , Koraput 30.12.2009 Cadre 87 Shri Anirudha Ku. Singh MSc.(Statistics) 1 -1 -1978 Bihar(O.B.C.)O.B.C. I.D.No. 20061272 R.R. 2006 S.P, (I/C) , Malkangiri 03.01.2010 Cadre 88 Ms Sudha Singh M.C.A. 30 -1 -1979 Delhi(S.C.)S.C. I.D.No. 20071343 R.R. 2006 S.P, (I/C) , Kalahandi 30.12.2009 Cadre 89 Dr. Sarthak Sarangi MBBS 5 -7 -1977 Bhubaneswar, Khurda Orissa I.D.No. 20071059 R.R. 2007 S.P. , Gajapati 17.12.2010 Cadre 90 Shri Satyendra Kumar M.Tech 14 -5 -1978 Kaimur, Bihar(O.B.C.) I.D.No. 20071149 R.R. 2007 S.P. , Boudh 11.12.2010 Cadre 91 Shri Awinash Kumar B. Tech 16 -10 -1979 Patna, Bihar I.D.No. 20071159 R.R. 2007 S.P. , Bolangir 02.06.2011 Cadre 92 Shri Niti shekhar B.E. 19 -12 -1978 Patna, Bihar I.D.No. 20071189 R.R. 2007 S.P. , Nawarangpur 10.12.2010 Cadre 93 Shri Pandit Rajesh Uttamrao B.E.(Mech) 7 -6 -1973 Hingoli, Moharastra(S.C.) I.D.No. 20071289 R.R. 2007 S.P. , Ganjam 15.06.2011 Cadre 94 Shri Umashankar Dash M.B.A 15 -7 -1980 Mayurbhanj, Orissa I.D.No. R.R. 2008 01.09.2010 01.09.2010 S.D.P.O. , Malkangiri 14.12.2010 95 Shri Prakash. R Bsc(Chemistry) 16 -7 -1979 Thwthukudi, Tamilnadu I.D.No. R.R. 2008 01.09.2008 01.09.2008 S.D.P.O. , Bisamkatak 96 Shri Satyajit Nayak B.V.S.C & A.H. 28 -6 -1976 Jharsuguda, Orissa I.D.No. R.R. 2008 02.12.2008 02.12.2008 S.D.P.O. , Baliguda 97 Shri Akhileswar Singh M.A. (Hist.) 16 -8 -1979 Ghazipur (UP) I.D.No. R.R. 2009 31.08.2009 U/T , Keonjhar 98 Shri Brijesh Kumar Rai M.A. (Pol.Sc.) 12 -12 -1978 Allahabad (UP) I.D.No. R.R. 2009 31.08.2009 U/T , Kandhamal 99 Charah Singh Meena M.A. (Hist.) 4 -1 -1980 Sawai Madhopur (Rajsthan) I.D.No. R.R. 2009 21.12.2009 U/T , Malkangir 100 Shri Mitrabhanu Mahapatra - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 101 Ms. Sarah Sharma - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 102 Shri Kanwar Vishal Singh - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 103 Shri Ashish Kumar Singh - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 104 Shri Sunil Joshi - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 105 Ms. Parul Gupta - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 106 Shri Thiyagarajan S.M - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 107 Shri K. Siva Subramani - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 , 108 Ms. Alka Meena - - I.D.No. R.R. 2010 Alloted on the basis of Civil Service Exam. 2009 ,

Maharastra Police: Mumbai: Fake Cops: मुंबई पुलिस ने पकड़ी फर्जी पुलिसवालें बनाने की फैक्ट्री...

Police Academy: Fake it or leave it • Police uniforms, ID cards, handcuffs... murder accused Royal Edward Sequeira operated a well-equipped school that churned out fake cops • Showed ‘students’ how cops spoke, dressed, walked, and where they ate; once ready, they were used for extortion, robbery, even murder Nazia Sayed Posted On Tuesday, September 27, 2011 at 02:55:04 AM His students called him Roy. They always found him immaculately dressed, and marveled at the effort he put in to look every inch a senior police officer. They recalled a day when he pulled up one among them for not shaving - "Cops never look shabby" - he had shouted at him.
Thirty-two-year-old Royal Edward Sequeira was many things to many people, but it’s this former police informer turned fake cop's factory that churned out more fake policemen that has stunned even the battle-hardened officers. He groomed his 'students', taught them how cops spoke and walked, showed them places where they ate, made them dress like policemen... and once ready, used them for extortion, robbery and even murders. Sequeira has more than 50 cases registered against him. He was arrested around 10 days ago, along with Mohammad Mehboob Abdul Hamid Shaikh (27), Deepak Tersu Singh (26) and Anuj Chougule (22), while on their way to rob a jeweller in Kurla. Interrogation revealed Sequeira's training school was a professional affair. He selected students, such as Shaikh, Singh and Chougule, only when he was convinced of their 'credentials'. In this case, he had shared a prison cell with Chougule, who in turn introduced him to history sheeters Shaikh and Singh. Crime Branch sources said not all qualified to learn police techniques from Sequeira. There were boxes to tick, such as the trainee's built and voice, basic education was a must to make sure they picked up legal terms, their command over Marathi, and above all, the trainees must have the confidence to pull off the cop act. There was a test too, which determined whether the students were ready for the actual thing. Sequeira would send them on a test run, handing out tasks such as conning women out of their jewellery, or extorting money from hoteliers posing as cops. The successful lads would be drafted in the gang. The others not found up to the mark were not discarded; they were used for robberies, extortion and kidnapping. On his part, he ensured that his students never fell short of equipment. Cops have recovered police uniforms, ID cards and even handcuffs from the gang's hideout in Vasai.
Sequeira’s Murky past Senior Inspector Praful Bhosle (Crime Branch Unit 5) said, “Sequeira has been handed over to Mahabaleshwar police in a murder case, but his interrogation has given us a few leads that we are following. We recovered a photograph of Roy, which showed him wearing a police uniform, and a fake police ID card bearing name of Vijay Ganesh Pawar. A fake driving license was seized from Chougule, apart from weapons.” Joint Commissioner of Police Himanshu Roy said, “We are investigating whether Sequeira and his gang were involved in the recent cases of fake cops robbing women of their jewellery. His arrest is a huge breakthrough.” Know the cops Fake cops target evening walkers, especially women, considering them soft targets. In most cases, the walkers were approached by a couple of men, who would identify themselves as policemen. Saying a murder had taken place in the area, the conmen would ask the women for their jewellery, asking them to collect it from the police station while returning home. In most cases, the unsuspecting victims would comply. DCP Mahesh Patil (Zone 11) said, “Always insist on the ID card, but don’t just stop at that. Store the number of your local police station in your phone book, and call up to ask whether such drive is on. Raise an alarm if the robbers use force.”

Maharastra Police: Mumbai: IPS Had famously told a female junior: ‘Aap aaye, bahaar aayi’, Now State Human Rights Commission ordered him to pay a Rs 50,000 fine....

In a landmark order the State Human Rights Commission has asked a senior IPS officer to pay a Rs 50,000 fine to his junior female colleague for sexual harassment. The case which had created a stir in Mumbai police circles when it was first reported in 2002, involves IPS officer Jawahar Singh, at present under suspension for another matter, and Assistant Police Inspector Neelam Bhagat who is now with the state CID (Criminal Investigations Department) in Kolhapur. In March 2002, Bhagat was posted as sub-inspector in the anti-narcotics wing of the Mumbai police where Singh was the Deputy Police of Commissioner.
According to her complaint, filed on March 1, 2002, Singh had called Neelam Bhagat into his room over consecutive days and passed deeply offensive remarks about her clothing, at first calling it flimsy, and then on another day berating her for covering herself up. Singh allegedly said: “Why do you have to cover yourself with a dupatta so tightly that nothing can be seen? You could have worn it higher.” On a third occasion, he called her into his office and famously remarked: 'Aap aaye, bahaar aayi.' A distressed Bhagat had burst into tears and rushed out, but later she filed an official complaint against Jawahar Singh. Initially, the complaint was not taken seriously and Bhagat was offered a transfer from the department, which she refused. But after the matter was reported in the media, Jawahar Singh was transferred.
An inquiry conducted by then Additional Chief Secretary (Home) was inconclusive after which Bhagat took up the matter with the State Human Rights Commission. Finally, nine years after her ordeal, the complaint redressal committee ruled in her favour and ordered the compensation which will be recovered from Singh, confirmed a senior home department officer, adding that an order to this effect had been issued on September 23. Singh, who remains a controversial officer-he was suspended as Inspector General (Jails) after conducting a sting operation against another woman colleague, Aurangabag jail superintendent Swati Sathe, ostensibly to show her in poor light - refused to comment on the SHRC compensation saying they had not called him for a hearing. Neelam Bhagat, too, refused to comment on the matter.

Rajasthan Police: अब मंत्री के बयान पर बवाल, पुलिस से कहा-पिटकर नहीं,पीटकर आओ!

जयपुर.गृह मंत्री शांति धारीवाल की ओर से रविवार को आरपीए में दिए गए विवादास्पद बयान के बाद बवाल हो गया है। धारीवाल ने पुलिसकर्मियों को सलाह दी थी कि किसी गांव में पिटने की स्थिति में दुबारा ट्रक भरकर जाकर सबक सिखाएं। मंगलवार को इस बयान पर धारीवाल ने कहा कि उनकी जुबान फिसल गई थी, उनका अभिप्राय पुलिस का इकबाल बनाए रखने और अपराधियों को सबक सिखाने से था। बेकसूरों को पीटने की सलाह देने का नहीं था। इस पर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डॉ. चंद्रभान ने कहा कि मैंने बयान सुना या पढ़ा नहीं है, लेकिन मेरा कहना है कि जो लोग सार्वजनिक जीवन में हैं उनको मर्यादित भाषा का उपयोग करना चाहिए। भाजपा ने भी गृह मंत्री के बयान की आलोचना की है।
पहले भी दे चुके हैं विवादित बयान : > 17 जुलाई को कोटा में रेंज मीटिंग में भी कहा था, पुलिस कहीं पिट जाए तो और ज्यादा तादाद में लौटकर वहां जाओ और पीटने वालों घेरकर पीटो और अच्छी तरह सबक सिखाओ। >जयपुर में अगस्त में शूटिंग रेंज के उद्घाटन के समय कहा, नगर निगम नरक निगम बन गया है। >जयपुर में मेट्रो के काम से सड़कों की स्थिति पर कहा, मेट्रो का सुख लेना है तो गड्ढे तो झेलने ही पड़ेंगे। यह कहा था धारीवाल ने बेकसूर पिट जाएं तो भी कोई बात नहीं पिट के मत आओ। अगर तीन मुल्जिमों को पकड़ने के लिए आपने दो कांस्टेबल गांव में भेज दिए, और वो पिट गए तो वापस गांव में जाओ। ट्रक भर के जाओ और गांव को घेरो, चाहे तो दो-चार बेकसूर पिट जाएं, कोई बात नहीं। लेकिन पिटकर मत आओ।

Delhi Police: Anna Hazare: दिल्‍ली पुलिस के खिलाफ टीम अन्‍ना खोलेगी मोर्चा, शुरुआत संसद मार्ग थाने

नई दिल्‍ली. रिश्‍वत की परंपरा को जड़ से मिटाने के संकल्‍प के साथ टीम अन्‍ना बुधवार को अभियान शुरू करेगी। इस अभियान की शुरुआत राजधानी के पार्लियामेंट स्‍ट्रीट थाने से होगी जहां पुलिसवालों से यह संकल्‍प लेने के लिए कहा जाएगा कि वो कभी रिश्‍वत नहीं लेंगे। अभियान से जुड़े लोग पुलिसवालों से इस बारे में लिखित आश्‍वासन देने को भी कहेंगे।
शहीद भगत सिंह की जयंती के मौके पर शुरू किया जा रहा यह अभियान देश की राजधानी में इस तरह का दूसरा अभियान है। इससे पहले बीते 21 सितंबर को वॉलंटियर एमसीडी के डिप्‍टी कमिश्‍नर दफ्तर गए थे। टीम अन्‍ना के एक सदस्‍य ने बताया, ‘अपने अभियान के तहत हम पार्लियामेंट स्‍ट्रीट पुलिस स्‍टेशन जाएंगे।’ इस पुलिस स्‍टेशन को अभियान की शुरुआत के लिए चुने जाने के बारे में उन्‍होंने कहा कि भगत सिंह को गिरफ्तार करने के बाद इसी थाने में लाया गया था।

Rajasthan Police: पुलिस को गृहमंत्री की सलाह, पिट कर नहीं पीट कर आओ...

जयपुर।। राजस्थान के गृहमंत्री शांति धारीवाल ने पुलिस से कहा है कि कहीं से भी पिट कर मत आओ, बल्कि पीट कर आओ। शांति धारीवाल ने पुलिसवालों को यह सलाह एक कार्यक्रम में दी। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि अगर 3 लोगों को पकड़ने के लिए 2 कॉन्स्टेबल गांव में जाएं और वे 2 पिट जाएं तो फिर गांव में ट्रक भरकर जाओ और पूरे गांव को घेरो। चाहे कुछ लोग बेकसूर पिट जाएं। कोई बात नहीं। धारीवाल ने पुलिस का दबदबा बरकरार रखने के लिए इसे जरूरी बताया।
मंत्री के भाषण का असर भी पुलिस पर तुरंत दिखा। धारीवाल की सलाह के कुछ ही घंटों के भीतर अजमेर में पुलिस ने स्कूली बच्चों पर लाठी चार्ज किया। राइट टु एजुकेशन वाले इस देश में ये बच्चे केवल अपने स्कूल का ताला खुलवाने की मांग कर रहे थे। अभी हाल ही में जमीन के एक टुकड़े के लिए भरतपुर के दंगे में 10 लोगों की मौत हुई थी। इनमें से 2 की मौत पुलिस की गोली से हुई थी।

Sunday, September 25, 2011

Mumbai Police: कत्ल करवाने के बाद बनाता रहा पुलिस की हजामत..

मुंबई।। कत्ल के बाद आमतौर पर आरोपी पुलिस से भागते फिरते हैं, पर महाबलेश्वर में भरत साठे नामक शख्स के कत्ल में कातिलों को सुपारी देने वाला पुलिस वालों की मर्डर के कई दिन बाद तक हजामत बनाता रहा। इस शख्स का नाम है नारायण शंकर उलालकर उर्फ अंकुश। अंकुश महाबलेश्वर में नाई की दुकान में काम करता था। उसकी पत्नी महाबलेश्वर में ही सिद्घि विडियो गेम्स पार्लर में काम करती थी। इस पार्लर के मालिक भरत साठे का दादर में एक बड़ा एजुकेशन इंस्टिट्यूट है। अंकुश की पत्नी का इस भरत के साथ लंबे समय से अफेयर चल रहा था। उसका बेटा भी भरत के साथ ही रहता था। एक बार जब बेटा पिता अंकुश के पास गया और उसे पापा कहकर बुलाया, तो इस बात को लेकर बेटे को भरत और उसकी प्रेमिका (अंकुश की पत्नी) ने उसे(बेटे को) काफी हड़काया गया। अंकुश को इस पर बहुत बुरा लगा। उसका अपनी पत्नी के साथ कोर्ट में तलाक का केस पहले से ही चल रहा था, जिसमें उसे हर महीने मेनटिनेंस देना पड़ता था। इस मेनटिनेंस की वजह से वह आर्थिक रूप से कंगाल होता जा रहा था, दूसरी ओर उसकी पत्नी को ऐश करने के भरत से लगातार पैसे मिल रहे थे। ये सब बातें अंकुश को इतनी चुभ रही थीं कि उसने भरत साठे का कत्ल करवाने का मन बना लिया और यह बात अपने ड्राइवर दोस्त सीताराम चौरत को बता दी।
संयोग से कुछ महीने पहले मुंबई में महालक्ष्मी इलाके का रहनेवाला क्रिमिनल अनुज चौगुले घूमने के बहाने महाबलेश्वर गया और वहां वह सीतारात चौरत की गाड़ी में बैठा। उसी में सीताराम ने अनुज के पास एक हथियार देख लिया। वह समझ गया कि अनुज क्रिमिनल है और उसके दोस्त अंकुश के काम का आदमी है। सीताराम ने फौरन अनुज को अपने दोस्त अंकुश से मिलवाया। अंकुश ने उसे अपनी पत्नी के आशिक भरत साठे के कत्ल करने का कहा, लेकिन मामला सुपारी की रकम को लेकर लटक गया। अंकुश चूंकि गरीब था, इसलिए कत्ल के लिए वह महज कुछ हजार रुपये देना चाहता था, जबकि अनुज की कई लाख रुपये की डिमांड थी। जब मामला नहीं पटा, तो अनुज वापस मुंबई लौट आया और फिर उसने 1 जून को अपने कई साथियों के साथ मुलुंड में महालक्ष्मी जूलर के यहां 17 लाख रुपये के आभूषण लूट लिए । उस केस में जब सीनियर इंस्पेक्टर प्रफुल्ल भोंसले, सुहास चौधरी, अशोक खोत, राजाराम वनमाने और विवेक भोंसले की टीम ने इकबाल कासम पठान व तीन अन्य आरोपियों को पकड़ा, तो अनुज, रॉयल सिक्वेरा व रोहित शर्मा मुंबई से गोवा के लिए भाग लिए। चूंकि गोवा के रास्ते में महाबलेश्वर भी आता है, इसलिए अनुज का मन यहां थोड़ा बदल गया। उसने सोचा कि चलो एक बार अंकुश से मिल लेते हैं और यदि उसकी पत्नी का आशिक भरत साठे जिंदा होगा, तो अंकुश से कुछ हजार की ही सही, सुपारी लेकर भरत का कत्ल कर देते हैं। अंकुश तो इस साजिश के लिए पहले से तैयार था, उसने अनुज के मांगने पर रुपये फौरन दे दिए। बदले में अनुज, रॉयल सिक्वेरा व रोहित 20 जून को महाबलेश्वर के सिद्घि विडियो गेम्स पार्लर में घुसे। उन्होंने वहां भरत साठे व उसकी प्रेमिका (अंकुश की पत्नी) को कुर्सी से बांधा और फिर भरत को गोली मार दी। बाद में उन्होंने विडियो पार्लर में रखा कैश इस अंदाज में उठा लिया, कि लगे भरत साठे का कत्ल लूट के मकसद से किया गया। महाबलेश्वर पुलिस ऐसा समझी भी, उसे अंकुश पर जरा भी शक नहीं हुआ। विडियो पार्लर और अंकुश की सलून की दुकान के पास पुलिस चौकी होने के चलते वहां के पुलिसवाले हजामत बनाने के लिए नियमित रूप से अंकुश की दुकान पर आते रहे, लेकिन कभी भी उन्होंने अंकुश से भरत साठे कत्ल में कोई सवाल नहीं पूछा। बल्कि अंकुश ही हजामत के दौरान पुलिस वालों से पूछता रहता था कि भरत के कत्ल में आपको क्या लगता है? हत्यारा कौन हो सकता है? इस हत्याकांड का राज पिछले पखवाड़े तब खुला , जब ऐंटि रॉबरी स्क्वॉड को इस बारे में महत्वपूर्ण सुराग मिला। इसके बाद अंकुश पुलिस या जेल वालों की छोडि़ए , खुद अपनी हजामत ही कायदे से और नियमित नहीं बना पा रहा है।

UP Police: Gaziabad Traffic Police: इसमें ट्रैफिक पुलिस की उपलब्धियों की तस्वीर होगी,यूपी पुलिस की तर्ज पर अब यूपी ट्रैफिक पुलिस भी अपनी वेबसाइट तैयार..

गाजियाबाद : यूपी पुलिस की तर्ज पर अब यूपी ट्रैफिक पुलिस भी अपनी वेबसाइट तैयार कर रही है। इसमें ट्रैफिक पुलिस की उपलब्धियों की तस्वीर होगी। इसमंंे गाजियाबाद पुलिस की उपलब्धियों को भी दर्शाया जाएगा। यह वेबसाइट 1 महीने के अंदर शुरू होने की उम्मीद है। एसपी ट्रैफिक अजय सहदेव ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि एडीजी ( ट्रैफिक ) सूर्यप्रकाश शुक्ल ने वेबसाइट में फीड करने के लिए गाजियाबाद ट्रैफिक पुलिस के संबंध में जानकारियां मांगी हैं।
यूपी पुलिस ने क्राइम और क्रिमनल्स के संबंध में पुलिस की उपलब्धियों की जानकारी देने के लिए वेबसाइट तैयार की हुई है। अभी तक ट्रैफिक पुलिस की अलग से साइट नहीं थी। इसके कारण ट्रैफिक पुलिस की उपलब्धियों की जानकारी आम लोगों को नहीं मिल पाती थी। इसलिए ट्रैफिक पुलिस ने अलग से साइट तैयार करने का फैसला लिया है। वैसे गाजियाबाद पुलिस भी आम लोगों को अपनी उपलब्धियों की जानकारी देने के लिए अलग से साइट तैयार कर रही है।

UP Police: Bhatta Parsol Case: कोर्ट ने पुलिस की पुर्नविचार याचिका स्वीकारी, गैंग रेप के आरोप में पीएसी के कंपनी कमांडर समेत 17 जवानों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने का मामला...

गैंग रेप के आरोप में पीएसी के कंपनी कमांडर समेत 17 जवानों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के मामले में कोर्ट ने पुलिस की पुर्नविचार याचिका स्वीकार कर ली है। इस संबंध में शुक्रवार को डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई अभी जारी रहेगी। भट्टा - पारसौल में 7 मई को किसानों और पुलिस - पीएसी के बीच हिंसक संघर्ष हुआ था। इसमें दो किसान व दो पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी , जबकि दोनों पक्षों से सैकड़ों लोग घायल हुए थे। गांव की एक महिला ने अब आरोप लगाया है कि 7 मई की रात पीएसी के 49 वीं कंपनी के कमांडर समेत 17 जवानों ने उसके साथ गैंग रेप किया था। महिला ने डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में सभी आरोपियों के खिलाफ गैंग रेप के आरोप में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई कराने की अपील की। कोर्ट ने दनकौर पुलिस को सभी आरोपियों के खिलाफ गैंग रेप की रिपोर्ट दर्ज करने का आदेश जारी किया है।
पुलिस की तरफ से गुरुवार को डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में रिविजन फाइल किया गया। कोर्ट ने पुलिस की याचिका स्वीकार कर ली है। एसपी देहात राकेश कुमार जौली ने बताया कि शुक्रवार को इस मामले में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान कोई फैसला नहीं हो सका है। पुलिस ने कोर्ट से अपनी अपील में पीएसी के कंपनी कमांडर व जवानों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश के बारे में फिर से विचार करने का अनुरोध किया है। पुलिस का कहना है कि गैंग रेप का आरोप लगाने वाली महिला भट्टा - पारसौल प्रकरण में 10 हजार रुपये के इनामी किरण पाल की पत्नी है। किरण पाल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और फिलहाल वह जेल में है। गैंग रेप का आरोप भी घटना के चार महीने बाद लगाया गया है।

UP Police: Anna Effect: यूपी पुलिस में करप्शन के खिलाफ लड़ने वाला कांस्टेबल सुबोध यादव बर्खास्त..

पुलिस अधीक्षक, रेलवे, गोरखपुर अमिताभ यश के हस्ताक्षर से जारी हुआ बर्खास्तगी का पत्र : अन्ना के मंच से आईपीएस बृजलाल को भ्रष्टाचारी कहने वाले सुबोध यादव पर अंततः गिरा दी गई गाज : सुबोध यादव ने अंतिम दम तक करप्शन और तानाशाही के खिलाफ लड़ने का ऐलान किया : भड़ास4मीडिया के पाठकों के लिए सुबोध यादव का नाम अपरिचित नहीं है. इसलिए उनके बारे में ज्यादा न बताते हुए, उनके हश्र के बारे में सूचित किया जाता है कि इस जांबाज कांस्टेबल को माया सरकार के वरिष्ठ पुलिस अफसरों ने 'शहीद' कर दिया है. करप्शन और डिक्टेटरशिप के खिलाफ लड़ने वाले इस सिपाही को बर्खास्तगी का पत्र थमा दिया गया है. यह नेक काम किया है आईपीएस अमिताभ यश ने. अमिताभ यश इन दिनों पुलिस अधीक्षक रेलवे गोरखपुर के पद पर कार्यरत हैं और सुबोध इन्हीं के अधीन पदस्थ थे. भड़ास4मीडिया से बातचीत में सुबोध यादव ने ऐलान किया कि बर्खास्तगी से उन्हें न तो डराया जा सकता है और न ही झुकाया जा सकता है. करप्शन और डिक्टेटरशिप के खिलाफ उनकी लड़ाई अब और बड़े पैमाने पर लड़ी जाएगी.
साभार- bhadas4media.com

Police Poll: दशहरे पर पुलिस कर्मियों को नापसंद है???? A-B-C-D..वोट करें, लिंक पर क्लिक करें..

त्यौहार के दिन बंदोबस्त ड्यूटी त्यौहार के दिन नए कपड़ों के बजाय वर्दी पहने रहना त्यौहार के दिन घर पर पूजा के बजाय गश्त मिठाई की जगह सेट पर माइक वन,माइक टू की डांट खाना
वोट करने के लिए लिंक पर जाएं और ब्लॉग के साइड में पोल पर जाकर अपना वोट डालें.....

Friday, September 23, 2011

BREAKING NEWS: बिलकुल नए लुक में आपका POLICE NEWS...अब हम और बेहतर होंगे अपने अपनों तक पहुंचाने में आपके संदेश..

दोस्तों हमने आपके इस संदेश वाहक POLICE NEWS को एक नया रुप दिया है। अब आपका policenewshome.blogspot.com आपके सामने बिलकुल नए कलेवर में है। पहले से ज्यादा तेज, ज्यादा बेहतर। हम अब सोशल मीडिया facebook, twitter,linkedin, google plus जैसे तमाम माध्यमों के जरिए आप ही नहीं दुनिया के तमाम पुलिस मित्रों तक पहुंच रहे हैं।
हमें लिखें कैसा लगा आपकों POLICE NEWS का ये नया रुप। नमस्ते। POLICE NEWS...

HR Police: Gurgoan Traffic Police: सड़कों पर मनमाने ढंग से अपने वाहन खड़े करने वालों की आएगी शामत, गुड़गांव टैफ्रिक पुलिस को मिली दो क्रेन...

ट्रैफिक पुलिस के बेड़े में जल्द ही 2 क्रेन और शामिल होंगी। पुलिस ने शहर की मुख्य सड़कों पर से नियमों का पालन न करने वाली गाडि़यों को उठाने का काम तेज करने का प्लान बनाया है। पुलिस का मानना है कि लोग अपनी गाडि़यां रोड पर गलत जगह खड़ी कर देते हैं, जिससे जाम लगता है। पुलिस के पास पहले से 5 क्रेन मौजूद हैं। पुलिस ने 2 और क्रेन के लिए नगर निगम को लेटर लिखा है।
नो पार्किंग जोन के अलावा शहर की मुख्य सड़कों पर मनमाने ढंग से अपने वाहन खड़े कर लोग जाम को बढ़ावा देते हैं। इसके कारण पहले से ही जाम से जूझ रहे शहर में जाम और अधिक नासूर हो जाता है। इसके लिए ट्रैफिक पुलिस की ओर से 5 के्रन शहर में ईस्ट, वेस्ट जोन के अलावा हाइवे पर लगाई गई हैं। यह क्रेन नो पार्किंग जोन और रोड पर बेतरतीब खड़ी गाडि़यों को उठाती हैं। इसके बाद इन गाडि़यों के मालिकों पर जुर्माना कर गाड़ी को छोड़ा जाता है। लोगों को ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक करने के लिए यह काम किया जा रहा है। पुलिस ने ईस्ट व वेस्ट जोन में 2-2 और हाइवे पर 1 क्रेन लगाई है। बढ़ते ट्रैफिक के कारण पुलिस ने अब 2 क्रेन और मंगवाने का फैसला लिया है। पुलिस के सर्वे के मुताबिक, शहर के ओल्ड व न्यू रेलवे रोड, शीतला माता रोड, अतुल कटारिया चौक व ओल्ड दिल्ली रोड के अलावा बस स्टैंड पर ऑटो रिपेयर शॉप संचालकों के अलावा दूसरे दुकानदार, ऑटो चालक व प्राइवेट वाहन चालक रोड पर बेतरतीब वाहन खड़ा कर जाम को बढ़ावा देते हैं। ऐसे में बढ़ते टै्रफिक और वाहनों की संख्या को देखते हुए 2 क्रेन मंगवाई गई हैं। डीसीपी ट्रैफिक भारती अरोड़ा ने बताया कि नगर निगम को 2 क्रेन मुहैया करवाने के बारे में लेटर लिखा गया है। उम्मीद है कि यह क्रेन जल्द ही टै्रफिक पुलिस के बेड़े में शामिल होंगी।

Mumbai Police: Mumbai police to start helpline to nail corrupt cops...

In a bid to purge corruption from its system, the Mumbai Police will soon start a dedicated anti-bribery helpline to receive complaints, that will be looked into by the police chief, from the affected people.

"The helpline to be known as 'Citizens Grievance Mechanism' would be started within a week," deputy police commissioner (operations) Rajkumar Vhatkar said.


Though a dedicated cell of Anti Corruption Bureau (ACB) already exists, the Mumbai Police commissioner Arup Patnaik has decided to start this citizen-friendly initiative that would specifically concentrate on eradicating corruption from the force.

"Two dedicated mobile numbers would be made available on city police's websites on which the citizens can send text messages if they come across any corrupt police official attached to Mumbai police department," Vhatkar added.

However, the DCP clarified that no calls would be received on these numbers.

The complaints will be personally looked into by the city police chief, who would ensure enquiry against the concerned officer for demanding bribe, Vhatkar said.

If the officer is found guilty, an appropriate action would be initiated against him/her. But if the complaint is found to be fake, the complainant will be prosecuted, the DCP said.

Another IPS officer added that Patnaik had not received any specific complaints about his men but wanted to make the system free from evil of corruption.

The initiative is a stern message the police chief wants to send across his colleagues that corruption will not be tolerated at any cost, the officer added.

Gujrat Police: Ahmedabad: No CCTV, no dandiya: Police commissioner tells garba organisers...

AHMEDABAD: The terror has taken toll on the garba revelry this season as your every move will now be watched by the garba organizers and police officials in the city. In a notification on Thursday, the city police commissioner has issued a guideline for public and private garba organizers that underlines the use of CCTV cameras for security purpose.


Sudhir Sinha, the city police commissioner, issued a notification for the Navratri. As per the notification, the permission for the public events, also known as 'Sheri Garba' can be given by the respective police station inspector. For the commercial events having tickets or passes, the organizers will have to seek permission from the joint commissioner of police (traffic) office at city police commissioner office. The garba events can use loudspeakers up to 12 midnight. After that, the traditional instruments can be used without loudspeaker.

"As a city with high security every Navratri, many rules will be followed this year as well such as use of metal detectors at the entrance, issue of passes with photograph of the revelers, different entrance and exit for the revelers, deployment of private security personnel and keeping a check on the parking lots. What we have asked the organizers to do is to install CCTV cameras at all strategic locations in and around garba venue. The CCTVs should also be installed at parking, entry and exit. The footage should be retained for no less than three days," said Sinha.

The officials have also taken into consideration the traffic issues due to Navratri. As per the notification, 200 meters of both the sides of the venue should not have traffic jams or parking issues or else the organizers will be held responsible. The organizers have also been asked not to keep parking on road or else the permission will be revoked.

Rajasthan Police: Jaipur: दो एडिशनल एसपी के तबादले निरस्त, भरतपुर से ACB जयपुर भेजा...

जयपुर । राज्य सरकार ने एक आदेश जारी कर श्री समीर कुमार सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक का स्थानान्तरणए.सी.बी. भरतपुर से निरस्त कर ए.सी.बी. जयपुर में पदस्थापित किया गया है।


इसी प्रकार श्री महावीर सिंह राणावत का अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भिवाडी के पद पर किया गया स्थानांतरण निरस्त कर दिया गया है।

Rajasthan Police: JAISALMER: जैसलमेर पुलिस लाईन मैदान में पौधारोपण

जैसलमेर । महात्मा गांधी जीवनदर्शन समिति, जैसलमेर की ओर से गुरुवार को जैसलमेर पुलिस लाईन मैदान में पौधारोपण कार्यक्रम हुआ। इसमें जिला प्रमुख श्री अब्दुला फकीर, जिला कलक्टर श्री एमपी स्वामी, जिला पुलिस अधीक्षक ममता बिश्नोई, नगरपालिकाध्यक्ष श्री अशोक तंवर, जैसलमेर पंचायत समिति प्रधान श्री मूलाराम चौधरी सहित अन्य अतिथियों ने विभिन्न प्रजातियों के पौधे लगाए।


इस मौके पर जिला कलक्टर एमपी स्वामी ने पौधारोपण को आज की प्रधान आवश्यकता बताया और अधिक से अधिक पेड लगाने का आह्वान किया।

Rajasthan Police: Bharatpur: पुलिस ने चलाई 209 गोलियां, गोपालगढ़ हिंसा के बाद थाने का पूरा स्टॉफ बदला...

भरतपुर के आरबीएम अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद रखे गोपालगढ़ हिंसा के चार मृतकों के शव गुरूवार सुबह सुपुर्द ए खाक कर दिए गए। इस बीच, गोपालगढ़ थाने का पूरा स्टाफ बदल दिया गया है।

उधर, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोटा में कहा कि न्यायिक व सीबीआई जांच से वास्तविक स्थिति पता चल जाएगी। पुलिस ने अधिकांश फायरिंग हवा में की। पुलिस ने 209 गोलियां चलाई। ज्यादातर मौत आपसी संघर्ष में हुई। सरकार ने गोपालगढ़ घटना की न्यायिक जांच राजस्थान हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश सुनील कुमार गर्ग को सौंपी है।


गोपालगढ़ थाना लाइन-हाजिर
हिंसा के बाद गोपालगढ़ थाने के स्टाफ को गुरूवार को लाइन हाजिर कर दिया गया। इस बीच भरतपुर के आरबीएम अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद रखे चार मृतकों के शव गुरूवार सुबह सुपुर्द-ए-खाक किए गए। गुरूवार दोपहर को एक और शव परिजन ले गए। अब अस्पताल में दो शव और हैं। जयपुर में सवाई मानसिंह अस्पताल में दो जनों का पोस्टमार्टम हो गया। पोस्टमार्टम के बाद परिजनों ने शव लेने से इंकार कर दिया।

कर्फ्यू में ढील के दौरान भी गुरूवार को गोपालगढ़ के बाजार नहीं खुले। कामां व पहाड़ी क्षेत्र के 5 कस्बों में लगे कर्फ्यू की अवधि 23 सितम्बर को शाम 6 बजे तक बढ़ा दी गई है। सुबह 11 से सायं 4 बजे तक छूट रहेगी। कलक्टर व एसपी ने 6 शवों के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दो की मौत गोली लगने से होना बताया है।

गुरूवार को गोपालगढ़ पहुंचे भाजपा नेता गुलाबचंद कटारिया ने पुलिस कार्रवाई को जायज ठहराया, लेकिन समय रहते हालात पर नियंत्रण नहीं होने को सरकार की नाकामी करार दिया।

जांच में पता चलेगी सही स्थिति : गहलोत
कोटा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि न्यायिक व सीबीआई जांच के बाद ही गोपालगढ़ हिंसा की वास्तविक स्थिति का पता चल पाएगा। उन्होंने दावा किया, हिंसा में सभी लोगों की मौत पुलिस की गोली से नहीं हुई। पोस्टमार्टम में दो या तीन लोगों को ही पुलिस की गोली लगने की बात आई है। गहलोत ने कहा, गोपालगढ़ हिंसा सांप्रदायिक घटना नहीं बल्कि दो जाति या समुदाय के बीच जमीन का झगड़ा थी। पुलिस ने फायरिंग हवा में की। ज्यादातर मौतें आपसी संघर्ष में हुई।

जस्टिस गर्ग को जांच
जयपुर. राज्य सरकार ने गोपालगढ़ हिंसा एवं पुलिस फायरिंग की न्यायिक जांच राजस्थान हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश सुनील कुमार गर्ग को सौंपी है। उन्हें जांच के लिए तीन माह का समय दिया गया है।

रोडवेज को नुकसान
हिंसा से रोडवेज को 11 लाख का नुकसान हो चुका है। बसें करीब 52 हजार 797 किमी कम चलीं।

दिल्ली में सरकार विरोधी प्रदर्शन
नई दिल्ली. गोपालगढ़ में हुई हिंसा को लेकर विपक्ष के साथ हरियाणा व राजस्थान के अल्पसंख्यकों ने भी राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इन दोनों राज्यों के मेवों ने गुरूवार को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर राज्य के गृहमंत्री शांति धारीवाल के इस्तीफे की मांग की। दिल्ली वेलफेयर मेव सोसाइटी के बैनर तले प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे जदयू के सांसद अली अनवर ने पत्रिका से कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत को तुरंत गृहमंत्री का इस्तीफा लेना चाहिए।

वरना उनके खिलाफ मोर्चा खोला जाएगा। दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज हो। इधर, कांग्रेस आलाकमान को राज्य सरकार ने भी एक रिपोर्ट भेजी है। समझा जाता है कि रिपोर्ट में उठाए गए कदमों की जानकारी दी। संकेत हैं कि आलाकमान इस मामले से जुड़े नेताओं को एक दो दिन में दिल्ली तलब कर सकता है।

Rajasthan Police: Jodhpur: ANM Bhavri devi: राजस्थान के बहुचर्चित भंवरी देवी अपहरण मामले में अदालत की फटकार, जोधपुर रेंज के आईजी उमेश मिश्रा को २६ सितंबर को अदालत में तलब...

जयपुर । राजस्थान के बहुचर्चित भंवरी देवी अपहरण मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने जोधपुर रेंज के आईजी उमेश मिश्रा को २६ सितंबर को अदालत में तलब किया है। भंवरी देवी मामले में अनुसंधान अधिकारी ने गुरुवार को कोर्ट में अपना जवाब पेश किया।

अनुसंधान अधिकारी के जवाब से नाराजगी जताते हुए कोर्ट ने इस मामले में आईजी रेंज को अदालत में उपस्थित होने के आदेश दिए। अदालत ने इस मामले में पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर जांच अधिकारी को क़ड़ी फटकार लगाई।


गुरुवार को भंवरी देवी के पति अमरचंद की ओर से दायर की गई बंदी प्रत्यक्षीरकण याचिका पर सुनवाई हो रही थी। भंवरी देवी मामले में राजस्थान हाईकोर्ट गृह सचिव और आईजी रेंज को पहले ही नोटिस जारी कर चुका है।

इधर, भंवरी देवी मामले में अब पुलिस ने राजनेताओं पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। जोधपुर पुलिस ने भंवरी देवी अपहरण मामले में जोधपुर के पूर्व उप जिला प्रमुुख सहीराम विश्नोई को आरोपी बनाया है।

सहीराम की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने गुरुवार छह ठिकानों पर दबिश दी, लेकिन उसका कहीं सुराग नहीं लगा। सहीराम विश्नोई जोधपुर को उप जिला प्रमुख रहा है तथा उसने छह माह तक जिला प्रमुख का कार्यभार भी संभाला था। पुलिस की जांच में यह सामने आया है कि सहीराम विश्नोई ने ही शहाबुद्दीन को भंवरी देवी के अपहरण का जिम्मा सौंपा था। भंवरी देवी अपहरण मामले में राज्य के जल संसाधन मंत्री महिपाल मदेरणा और स्थानीय कांग्रेस विधायक के बाद सहीराम विश्नोई के रुप में तीसरे राजनेता का नाम सामने आया है।

इसके अलावा पुलिस ने इस मामले के प्रमुख आरोपी शहाबुद्दीन के खिलाफ कोर्ट से गिरफ्तारी वारंट लिया है। पुलिस ने शहाबुद्दीन की गिरफ्तारी पर इनामी राशि को चार हजार रुपए से ब़ढ़ाकर २५ हजार रुपए कर दिया है।

पुलिस ने शहाबुद्दीन की संपत्ति को कुर्क करने की भी तैयारी शुरू कर दी है। राज्य पुलिस की करीब एक दर्जन टीमें राजस्थान सहित प़ड़ोसी राज्य हरियाणा और उत्तर प्रदेश में भंवरी देवी की तलाश के लिए दिन रात जुटी हुई हैं।

Thursday, September 22, 2011

Police Career: Police Recruitment: Recruitment of Constable (Male) for Band Staff...

hiiiiiiiiiiiiii

Delhi Police: Police Health: दिल्ली पुलिस का फरमान, तोंद गायब करों या हो लाइन हाजिर...

दिल्ली पुलिस के जवानों से लेकर अफसरों तक में सैकड़ों ऐसे दिखाई दे जाएंगे, जिनकी 'तोंद' निकली हुई हैं। बड़ी तोंद को अनफिट होने की निशानी माना जाता है और अपनी इस इमेज से मुक्ति पाने के लिए अब पुलिस कमर कसर रही है। ट्रैफिक पुलिस तो बाकायदा बड़ा अभियान चलाने वाली है। लेकिन इसका दूसरा पहलू भी है कि सिपाही से लेकर सब-इंसपेक्टर तक के पुलिसकर्मियों पर काम का दबाव इतना ज्यादा है कि एक्सरसाइज का टाइम ही नहीं मिल पाता। कुछ ऑफिसर खुद को फिट रखने के लिए वक्त जरूर निकाल लेते हैं।

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के जॉइंट कमिश्नर सत्येंद्र गर्ग का कहना है कि कुछ अनफिट दिखने वाले ट्रैफिक पुलिसवालों की पहचान भी की गई है। इन्हें पहले फिट रहने के लिए कहा जाएगा जिसमें असफल होने पर ट्रैफिक लाइन भेज दिया जाएगा। उसके बाद भी अगर अनफिट बने रहे तो ट्रैफिक पुलिस से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। इस मुद्दे पर कई सिपाही और हवलदारों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि लगभग रोज ही उनकी 12 से 15 घंटे की ड्यूटी हो जाती है। अधिकतर पुलिसकर्मियों की पोस्टिंग उसके घर से दूर के इलाकों में की गई है। ऐसे में ड्यूटी आने-जाने में ही इतना वक्त गुजर जाता है कि एक्सरसाइज या मॉर्निंग वॉक का न समय ही नहीं बचता।

यहीं नहीं किसी प्वाइंट पर ड्यूटी देने के दौरान अगर कोई पुलिसकर्मी खाना खाने भी चला गया और उसी वक्त ऑफिसर ने विजिट कर ली तो भी डांट पड़ती है। इमरजेंसी में तो कई बार 24 घंटे यह उससे भी ज्यादा ड्यूटी देनी पड़ जाती है। परिवार और खासतौर से बच्चों को भी समय नहीं दे पाते। इससे हमारा स्वभाव भी चिड़चिड़ा होता जा रहा है। कुछ पुलिस ऑफिसरों का भी कहना है कि पुलिस की नौकरी में खुद को फिट रखने के लिए जरूर कोई न कोई उपाय किए जाने चाहिए, नहीं तो आने वाले समय में बहुत दिक्कतें पेश आएंगी।

वेस्ट दिल्ली के अडिशनल पुलिस कमिश्नर वी. रंगनाथन ने बताया कि अपने स्टाफ को फिट रखने के लिए वह कीर्ति नगर और राजौरी गार्डन में क्लासें लगवाते हैं। एक में फिट रहने के तरीके बताए जाते हैं तो दूसरी में एक्सरसाइज कराई जाती है। आउटर दिल्ली के डीसीपी बी. एस. जायसवाल का कहना है कि जल्द ही वह अपने डिस्ट्रिक्ट में भी पुलिसकर्मियों को फिट रखने की क्लास लगवाने जा रहे हैं। इसमें एक संस्था से टाइ-अप भी किया जा चुका है। इसमें पुलिस जवानों का मानसिक तनाव कम करने के भी तरीके बताए जाएंगे। नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के डीसीपी संजय जैन ने बताया कि पिछले दिनों उनके जिले में मेडिटेशन और योगा की क्लास शुरू की गई थी। मगर फिर टाइट शेड्यूल होने की वजह से वह छूट गई हैं। अब इन्हें दोबारा शुरू करने पर विचार किया जा रहा है।

क्या कहते हैं पुलिस ऑफिसर
खाने - पीने का बहुत अधिक ध्यान रखता हूं। कोशिश करता हूं कि रोज सुबह करीब एक घंटे सैर कर ली जाए। हालांकि जिम जाने का टाइम नहीं मिल पाता।
- वी . रंगनाथन , अडिशनल पुलिस कमिश्नर ( वेस्ट दिल्ली )

जिम तो नहीं जाता हूं , लेकिन मॉर्निंग वॉक जरूर करता हूं। खाने - पीने का खास ध्यान रखता हूं और लंच केवल फलों का ही करता हूं। आमतौर पर लिफ्ट जगह सीढ़ियों का इस्तेमाल ही करता हूं।
- राजन भगत , पीआरओ ( दिल्ली पुलिस )

फिट रहने की कोशिश करता हूं , मगर समय नहीं मिल पाता। हर वक्त मोबाइल फोन की घंटी बजने और ड्यूटी का कोई टाइम निश्चित न होने की वजह से सेहत पर ध्यान नहीं दे पाता।
- बी . एस . जायसवाल , डीसीपी ( आउटर दिल्ली )

पहले जिम भी जॉइन किया था , मगर टाइट ड्यूटी की वजह से छोड़ना पड़ा। अब कोशिश करता हूं कि सुबह या शाम वक्त मिलने पर थोड़ी वॉक कर सकूं। वैसे हमारी फिटनेस तो पेट्रोलिंग में ही हो जाती है।
- संजय जैन , डीसीपी ( नॉर्थ - ईस्ट दिल्ली )

Mumbai Police: बॉलीवुड पर फिर पड़ी भाई की गाज़, विवेक ओबेरॉय, सोहेल से मांगें 'खोखा'.....

बॉलीवुड एक्टर विवेक ओबेरॉय को गैंगस्टर रवि पुजारी ने फोन पर धमकी देकर दो करोड़ रुपए की मांग की है। मुंबई पुलिस के प्रवक्ता निसार तंबोली ने बुधवार को बताया कि विवेक ने धमकी की शिकायत दर्ज नहीं कराई है।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि हो सकता है कि शिकायत स्थानीय थाने में दर्ज कराई गई हो। मुंबई पुलिस के इस कथन के विपरीत सूत्रों का कहना है कि ओबेरॉय को आई इंटरनेशनल कॉल में धमकी देने वाले ने खुद का नाम रवि पुजारी बताया।

पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों ने खुलासा किया है कि विवेक और गैंगस्टर के बीच बिल्कुल फिल्मी अंदाज में बात हुई। उन्होंने बताया कि पुजारी व विवेक के बीच कुछ इस तरह बात हुई, साले बहुत डॉन बना है ना तू फिल्म में, नॉउ लिस्टेन टू मी, खोखा दे या तू खल्लास। आज कल बहुत छाप रहा है तू।

यह डायलॉग विवेक ने फिल्म कंपनी में दिया था जो कि छोटा राजन से मिलता-जुलता कैरेक्टर था। वहीं विवेक और उनके पिता सुरेश ओबोरॉय ने जूहु पुलिस स्टेशन में इस कॉल के बारे में रिपोर्ट लिखवा दी है।

एक पुलिस ऑफिसर ने बताया, "पुजारी आमतौर पर धमकी और जबरन वसूली के लिए सेटेलाइट और वीओआइपी नंबर से कॉल करता है जो 41000, 910000 या 3747 सीरिज से शुरू होते हैं। इसलिए इंटरनेशनल कॉल की पहचान करना आसान है। कुछ सेलिब्रेटीज तो नियमित अंतराल पर अपने नंबर बदलते हैं।"

गौरतलब है कि अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन से अलग होकर अपना गैंग चलाने वाला रवि पुजारी इसके पहले फिल्म निदेशक महेश भट्ट और मुंबई के कई नामचीन बिल्डरों को धमकी दे चुका है।

Delhi Police: उप-राज्यपाल ने ली पासिंग आउट परेड पर सलामी, दिल्ली पुलिस का संख्या बल हुआ 83700...

नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ते अपराध और आंतकवाद की घटनाओं को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने बुधवार को 4,568 सिपाहियों की नियुक्ति की जिसमें 460 महिला पुलिस भी शामिल हैं। इसके चार दिन पहले 2,022 सुरक्षा जवानों की भर्ती की गई थी। दिल्ली में सुरक्षा बलों की संख्या बढ़कर 83,700 हो गई है।

नवनियुक्त सिपाहियों के पासिंग आउट परेड के दौरान उप राज्यपाल तजेंद्र खन्ना ने "अपराध और आतंकवाद से निपटने के लिए खुफिया तंत्र को मजबूत करने" पर बल दिया।

खन्ना ने कहा, "इन घटनाओं से निपटने के लिए हमें पूरे देश में एक मील का पत्थर स्थापित करने की जरुरत है और इसके लिए लोगों को पुलिस को महत्वपूर्ण सूचनाओं को मुहैया कराना पड़ेगा।"

उन्होंने कहा कि सुरक्षा के लिए कानून व्यवस्था को बनाए रखना अनिवार्य है।

इस अवसर पर दिल्ली पुलिस आयुक्त बी. के. गुप्ता ने कहा कि वर्तमान समय में देश के सामने आतंकवाद सबसे बड़ी चुनौती है।

उन्होंने कहा, "हमें स्थानीय स्तर पर खुफिया तंत्र को बढ़ाने की आवश्यकता है।"

गुप्ता ने कहा कि नवनियुक्त सिपाहियों में से 25 महिला जवान सहित 685 जवानों को महाराष्ट्र के नांदेड़ में स्थित केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल प्रशिक्षण केंद्र में कमांडो प्रशिक्षण दिया जाएगा।

भर्ती किए गए सभी सिपाहियों को प्रारम्भिक कमांडो प्रशिक्षण से गुजरना पड़ेगा। इसके अलावा उनको निहत्थे लड़ाई करना, फोरेंसिक विज्ञान, कम्प्यूटर की मूलभूत जानकारी, बचाव कार्य, आतंकवाद की जवाबी कार्रवाई करने और साइबर अपराध के विषय में प्रशिक्षित किया जाएगा।

पहली बार महिला पुलिस को निहत्थे लड़ाई करने का खास प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके अलावा मोटरसाइकिल चलाने, साहसिक और बचाव कार्य का भी प्रशिक्षण दिया जाएगा।

इसके पहले दिल्ली पुलिस ने पिछले वर्ष 31 अगस्त को 351 महिला सिपाही सहित 5,697 सिपाहियों की नियुक्ति की गई थी।

MP Police: हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त पुलिस के जाल में फंसा सरकारी कर्मचारी...

इंदौर।। करीब नौ लाख रुपये की चोरी की रकम का बड़ा हिस्सा हड़पते हुए हाथ आए चोर को छोड़ने के आरोप में एक सब इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया। पुलिसकर्मी के खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी गई है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कृष्णावेणी देसावातु ने बताया, 'इस मामले में सब इंस्पेक्टर बिहारीलाल मेहर को सस्पेंड कर दिया गया है। जरूरी सबूत जुटाने के लिए मामले की निष्पक्ष जांच की जा रही है।'

पुलिस सूत्रों के मुताबिक मेहर ने विजय नगर क्षेत्र की एक बहुमंजिला इमारत में कुछ दिनों पहले हुई चोरी के आरोप में मिलन नामक व्यक्ति को पकड़ा था। सब इंस्पेक्टर ने उसके कब्जे से चोरी के करीब नौ लाख रुपये बरामद किए थे।

सूत्रों ने बताया कि मेहर ने चोरी की रकम में से साढे़ छह लाख रुपये खुद रख लिए और बचे हुए ढाई लाख रुपये आरोपी को थमाते हुए मामले को रफा-दफा कर दिया। सूत्रों के मुताबिक जब मिलन एक अन्य मामले में तुकोगंज पुलिस के हत्थे चढ़ा तो उससे पूछताछ के दौरान सब इंस्पेक्टर की करतूत उजागर हो गई।

UP Police: Kanpur : दो दिन पहले हुई लूट और हत्या के मामले में सर्राफा पुलिस चौकी का इंचार्ज लाइन हाजिर...

कानपुर।। चकेरी इलाके में एक सर्राफ के घर दो दिन पहले हुई लूट और हत्या के मामले में इलाके की पुलिस चौकी के इंचार्ज को गुरुवार को लाइन हाजिर कर दिया गया। मामले में करीब आधा दर्जन लोगों से पूछताछ की जा रही है। इस बीच घटना में मारी गई 13 साल की बच्ची पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उसके साथ मारपीट के साथ रेप की बात सामने आई है।

गौरतलब है कि 20 सितंबर को तड़के चकेरी के सनिगंवा इलाके में विनोद कुमार सर्राफ के घर सुबह करीब चार बजे तीन लुटेरे घुस आए और विनोद से सोने-चांदी के बारे में पूछा, आनाकानी करने पर लुटेरों ने परिवार के लोगों को लोहे की रॉड और फावड़े से बेरहमी से पीटा जिससे विनोद कुमार, उनकी पत्नी रत्ना और पुत्री मानसी (18) और दूसरी पुत्री मान्या (13) बुरी तरह से घायल हो गए। लुटेरे घर से सोने-चांदी का सामान और नकदी लेकर फरार हो गए थे। बाद में मान्या की मौत हो गई जबकि अन्य लोग अभी अस्पताल में हैं।

कानपुर पुलिस के डीआईजी राजेश राय ने बताया कि सनिगंवा इलाके के पुलिस चौकी इंचार्ज विनोद कुमार मिश्र को लाइन हाजिर कर पुलिस लाइन भेज दिया गया है। घटना की तहकीकात के लिए एक एसपी स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में तीन विशेष टीमें बनाई गई हैं जिसमें एसओजी को भी शामिल किया गया है।

डीआईजी के मुताबिक इस मामले में करीब आधा दर्जन संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है लेकिन अभी तक किसी को भी गिरफ्तार नही किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक, इस कांड में मरी मान्या की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उसके साथ रेप की पुष्टि हुई है।

Wednesday, September 21, 2011

Mumbai Police: रिश्वत लेते भाईंदर के PSI को DCP साहब ने किया गिरफ्तार, बिल्डर को धमका रहा था..

भाईंदर में शिवशंकर मोरे नामक पुलिस सब इंस्पेक्टर को पुलिस थाने में ही 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते नवी मुंबई के डीवाईएसपी राजेन्द्र जाधव ने बुधवार की दोपहर रंगे हाथों पकड़ा।


भाईंदर वेस्ट में 150 फुट रोड पर राधास्वामी परिसर के पास कंपनी की साइट है। कुछ अज्ञात लोगों ने वहां वाचमैन की चौकी को तोड़ दिया। बताते हैं कुछ दिन बाद पुलिस वाले उलटे कंस्ट्रक्शन कंपनी नसीम एंटरप्राइजेज के पार्टनर महाडिक को ही धमकाने लगे। मामला 1 लाख 25 हजार में तय हुआ।

Delhi Police: Delhi Traffic Police: देखिए नई तकनीक का कमाल, दिल्ली दिखाई देगा मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल...

दिल्ली की सड़कों पर आपको ट्रैफिक सिग्नल दौड़ता हुआ दिखाई दे तो चौंकिएगा नहीं, यह सच है। जिस सिग्नल को आप अपने साथ दौड़ता हुए देखेंगे, हो सकता है कि आगे किसी चौराहे पर वही ट्रैफिक सिग्नल आपकी दिशा तय करे। हैवी ट्रैफिक, मगर लालबत्ती नहीं, ऐसे इलाकों में अब मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल काम करेगा। यह सिग्नल ट्रैफिक जाम से भी थोड़ी-बहुत राहत प्रदान करेगा। इसके अलावा किसी स्थान पर स्थायी लालबत्ती लगानी है तो उससे पहले मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल के जरिए ट्रायल होगा। बुधवार से केजी मार्ग पर मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल बतौर ट्रायल काम करेगा।


ज्वाइंट सीपी (ट्रैफिक) सतेंद्र गर्ग ने बताया कि फिलहाल जाकिर हुसैन मार्ग पर मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल का ट्रायल पूरा कर लिया गया है। दो सप्ताह तक लगाए गए मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल की मदद से पता चला है कि इस मार्ग पर कहीं किसी भी तरह से ट्रैफिक बाधित नहीं हुआ। पैदल चलने वाले लोगों को भी कोई परेशानी नहीं हुई। ट्रैफिक सिग्नल का स्थान और लाल व हरी बत्ती का कितना समय रखा जाए, यह भी तय कर लिया गया है। मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल का सबसे बड़ा फायदा यही रहता है कि स्थायी सिग्नल लगाने से पहले उसका सकारात्मक व नकारात्मक प्रभाव बखूबी रूप से पता चल जाता है। उस इलाके में सिग्नल की जरूरत है या नहीं, इसका अंदाजा भी पहले ही लगा लिया जाता है। गर्ग का कहना था, किसी इलाके में जब यह पहले ही पता हो, कि वहां पर फलां दिन हैवी ट्रैफिक रहेगा या लोगों की भारी भीड़ जुटेगी तो मोबाइल ट्रैफिक सिग्नल का इस्तेमाल कर जाम से थोड़ी राहत प्रदान की जा सकती है।

Police Property: दिल्ली में मकान लेने के लिए हो जाए तैयार, डीडीए बनाएगा 67 हजार फ्लैट्स......

दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) अगले कुछ सालों में शहर के विभिन्न हिस्सों में 67,000 फ्लैट बनाएगा। डीडीए की एक बैठक में तीन श्रेणियों के फ्लैट बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। सूत्रों ने बताया कि ये फ्लैट रोहिणी और नरेला जैसे इलाकों में बनाए जाएंगे और डीडीए इन्हें बनाने में नई तकनीक का इस्तेमाल करेगा।


उन्होंने बताया कि इनमें से 20,000 फ्लैट कम आय वाले वर्ग के लिए, 19,000 आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) और 4,000 निम्न वर्ग के लिए बनाए जाएंगे । सूत्रों के मुताबिक, डीडीए ने बहुप्रतीक्षित फार्महाउस नीति को मंजूरी नहीं दी । इस नीति का उददेश्य शहर के 2,000 से भी ज्यादा फार्महाउस को नियमित करना है।

Mumbai Police: मुंबई पुलिस कमिश्नर ने दफ्तर बुलाकर सम्मानित किया कांस्टेबल को, छुट्टी के दिन भी निभाई थी ड्यूटी...

अक्सर ड्यूटी पर रहते हुए भी काम से कतराने वाले पुलिस वालों के लिए मुंबई पुलिस को बदनाम किया जाता है। लेकिन सभी पुलिस वाले ऐसे नहीं होते हैं।

दरअसल शनिवार को सुबह 11 बजे के करीब ताड़देव स्थित एक जूलरी की दुकान पर दो लोग सोने की चेन और कंगन बेचने आए थे। इस दौरान छुट्टी का दिन होने के कारण कॉन्सटेबल मारुति अपने बच्चों को स्कूल छोड़कर आ रहे थे। उन्होंने दुकानदार और आभूषण बेचने आए लोगों को बहस करते हुए देख लिया। उनकी हालत देखकर मारुति को शक हुआ कि कई वे चोर तो नहीं जो चोरी का सामान दुकान में बेचने आए। शक के आधार पर मारुति ने उन्हें जब रोकना चाहा तो वे भागने लगे।


इसी बीच ताड़देव पर ड्यूटी पर तैनात बीट मार्शल पुलिस कॉन्सटेबल शत्रुघ्न उग्ले की मदद से मारुति ने चोरों को पीछा किया , और उनमें से एक को धर दबोचा। जब मारुति और उनके साथी कॉन्सटेबल ने आरोपी अजय दुर्गाप्रसाद मिश्रा की तलाशी ली तो उसके पास 3.5 ग्राम की सोने की चैन और दो कंगन बरामद हुए। जबकि भीड़ होने की वजह से अजय का दूसरा साथी विनोद भागने में कामयाब रहा।

पूछताछ के दौरान अजय ने पुलिस को बताया कि वो और उसका साथी माहिम दरगाह में रहते हैं , और उन्हें यह जूलरी बांद्रा के माउंट मेरी चर्च के मैले में मिली। आगे की पूछताछ के लिए उसे ताड़देव पुलिस के हवाले कर दिया गया।

बहरहाल कॉन्सटेबल मारुति और शत्रुघ्न के काम से खुश होकर मुंबई पुलिस कमिश्नर अरूप पटनायक ने उन्हें अपने में दफ्तर बुलाकर सम्मानित किया। मारुति को छुट्टी पर होते हुए भी ड्यूटी करने के लिए डेढ़ हजार रुपये जबकि शत्रुघ्न को एक हजार रुपये की बख्शीश दी। साथ ही सीपी साहब ने दोनों को सर्टिफिकेट देकर उनकी हौसला अफजाई की। मारुति पाटील एन . एम . जोशी मार्ग में कार्यरत है।

Bihar Police: Patna: बंगाल के बाद अब बिहार पुलिस भी आई टीवी पत्रकारों के रास्ते, अब उपद्रवियों को करेगी 'शूट'....

पटना।। हाल के दिनों में बिहार में जनता और पुलिस के बीच हुए टकराव के मामलों में पुलिस की ' बदनामी ' हुई है। पुलिस ने इस तरह की ' बदनामी ' से बचने के लिए एक नायाब तरीका निकाला है। बिहार पुलिस अब उपद्रवियों से निपटने के लिए डंडे का इस्तेमाल नहीं करेगी बल्कि उन्हें 'शूट' करेगी। यह सुनने में थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन डीजीपी अभयानंद ने राज्य के सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों (एसपी) को उपद्रवियों से निपटने के लिए उन्हें 'शूट' करने का आदेश दिया है। यहां पर 'शूट' से मतलब उनको गोली मारने से नहीं बल्कि विडियो बनाने से है।

नए तरीके के तहत पुलिस अब भीड़ से निपटने के लिए लाठी और बंदूक ले जाने की बजाए कैमरा लेकर जाएगी।


अभयानंद ने मंगलवार को बताया कि कैमरे की मदद से उपद्रवियों की हरकतों का विडियो बनाया जाएगा और बाद में इसी को साक्ष्य बनाकर उन उपद्रवियों को कोर्ट से सजा दिलाने की कोशिश की जाएगी। उन्होंने कहा कि विडियो फुटेज देखकर पुलिस बदमाशों की भी पहचान कर सकेगी और उनके खिलाफ मामला दर्ज कर सकेगी। इस तरह फास्ट सुनवाई के जरिए अपराधियों को सजा दिलाने की कोशिश की जाएगी।

एक पुलिस अधिकारी का कहना है कि हमें संयम बरतने का निर्देश मिला है। इसमें सिर्फ एक लाइन लिखी है, 'शूट विद कैमरा नॉट विद वेपन।'

पुलिस अधिकारियों का मानना है कि इस तरकीब से दंगे, आगजनी और छोटी-छोटी बातों को लेकर होने वाले सड़क जाम जैसी स्थितियों से निपटने में अवश्य सहायता मिलेगी। जब उपद्रवियों को सजा मिलने लगेगी तो ऐसे मामलों पर रोक लगाया जा सकेगा। गौरतलब है कि बिहार पुलिस विडियो फुटेज देखकर पहले भी कई मामले निपटा चुकी है।

एक अन्य अधिकारी बताते हैं कि कानून में हुए संशोधन के तहत सबूत के तौर पर विडियो फुटेज का उपयोग किया जा सकता है। उनका कहना है कि फुटेज के आधार पर जनप्रतिनिधियों से मदद ली जाएगी जिससे सबूत जुटाने में पुलिस को और आसानी होगी।

उल्लेखनीय है कि हाल के दिनों में अररिया के फारबिसगंज और नालंदा में उपद्रवियों से निपटने और उन्हें नियंत्रित करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। इन घटनाओं के बाद जहां बिहार पुलिस को चारों तरफ आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा वहीं सरकार को भी फजीहत झेलनी पड़ी थी। इसके अलावा भीड़ द्वारा भी कानून को हाथ में लेने से पुलिस को परेशानी होती रही है, जिससे कानून-व्यवस्था की समस्या पैदा हो जाती है।

Police Health: मेडिटेशन तनाव को दूर रखने का अच्छा तरीका, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट...

सेहत विशेषज्ञ और विभिन्न शोध दर्शाते हैं कि मेडिटेशन तनाव को दूर रखने का अच्छा तरीका है। इससे एकाग्रता बढ़ती है और रक्त संचार नियमित होता है। व्यक्तित्व विकास और आत्मविश्वास की ओर ले जाने वाले विभिन्न मेडिटेशन और इनसे जुड़ी तकनीक पर एक नजर:


विकास की तेज दौड़ का एक नुकसान बढ़ते हुए अवसाद और तनाव के रूप में देखने को मिल रहा है। इस जुलाई में बीएमसी मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार फ्रांस और अमेरिका जैसे विकसित देशों में अवसादग्रस्त व्यक्तियों का प्रतिशत सबसे अधिक (करीब 30) है। इंडियन साइकाइट्रिक सोसायटी के उपाध्यक्ष रॉय अब्राहम के अनुसार, अवसाद के दो कारण हो सकते हैं, जैविक और अजैविक। यदि अवसाद की वजह जैविक कारण है तो इसका उपचार दवा के जरिए करने की जरूरत होती है, पर अजैविक कारणों से हुए अवसाद को उचित काउंसलिंग, योग और ध्यान के जरिए दूर किया जा सकता है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के एक अध्ययन में 18 देशों, जिनमें भारत भी शामिल है, की सामाजिक परिस्थितियों और अवसाद की स्थिति में तुलनात्मक अध्ययन पेश किया गया है, जिसमें करीबन 89 हजार लोग शामिल थे।


डॉ. रॉय अब्राहम के अनुसार भारत में बढ़ता तनाव और कुंठा, घटता सामाजिक सहयोग और धैर्य अवसाद के प्रमुख कारण हैं। अध्ययन के अनुसार ऐसे लोग जो गंभीर रूप से अवसाद से पीड़ित हैं, उनकी संख्या तुलनात्मक रूप से भारत में सबसे अधिक (36 प्रतिशत) है, पर अवसाद ही एकमात्र ऐसा रोग नहीं, जो भारतीयों को खा रहा हो। एसोचैम के वर्ष 2006 के बिजनेस बैरोमीटर सर्वे में 270 अधिकारियों को शामिल किया गया। इसमें से 66 प्रतिशत ने माना कि वे तनाव में हैं और 70 प्रतिशत ने स्वयं को मानसिक दबाव में बताया।
लंबे समय तक तनाव की अधिकता स्ट्रैस हॉर्मोन की संख्या बढ़ा देती है, जिससे प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है और शरीर के विभिन्न संक्रमण और कुछ खास तरह के कैंसर की चपेट में आने की आशंका भी बढ़ जाती है। लंबे समय तक स्थायी रूप से तनाव का बने रहना भी हमें हृदय और श्वसन संबंधी रोगों की ओर धकेल देता है।
विभिन्न संगठनों और डब्ल्यूएचओ और एसोचैम सहित विभिन्न संस्थाओं के सर्वे के अनुसार मेडिटेशन और डीप ब्रीदिंग व्यायाम, तनाव से दूर रखने या उसे नियंत्रित रखने में मददगार होते हैं। इससे चित्त को एकाग्र करने की क्षमता बढ़ती है, हृदय गति कम होती है और रक्त संचार भी नियमित होता है। ऐसे में लंबे समय तक ऐसे व्यायाम व्यक्ति को अच्छे स्वास्थ्य की ओर ले जाते हैं। इससे व्यक्तित्व विकास और आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद मिलती है। जिस तरह किसी एक बीमारी के उपचार के लिए कई दवाइयां होती हैं, उसी तरह विभिन्न तरह की ध्यान पद्धतियां भी हैं। हर स्कूल की अपनी अलग तरह की तकनीक और सोच है।

UP Police: बेटिकट यात्रा करते पकड़ाए बरेली के दरोगाजी, देना पड़ा एसी फर्स्ट का किराया और जुर्माना..

राजधानी एक्सप्रेस में रविवार को एक दरोगा बेटिकट यात्रा करते पकड़े गए। रेलवे बोर्ड विजिलेंस ने दोपहर में मंडल मुख्यालय को लंबी दूरी की एसी ट्रेनों में आकस्मिक चेकिंग के निर्देश दिए। इस निर्देश के कुछ देर बाद ही सूचना आई कि दिल्ली से गुवाहाटी जा रही राजधानी एक्सप्रेस में एक सांसद बिना टिकट सफर कर रहे हैं।


इन सूचनाओं को परखने के लिए मुरादाबाद से मंडल वाणिज्य प्रबंधक एसआर वर्मा के नेतृत्व मे गठित टीम राजधानी में सवार हो गई और बरेली तक ट्रेन में चेकिंग करती हुई आई। इस चेकिंग में सांसद तो मिले नहीं अलबत्ता बरेली के एक थाने में तैनात एक दरोगा जी एसी फर्स्ट में बिना टिकट सफर करते पकड़ लिए गए। वर्दी में दरोगा को सफर करते डीसीएम की टीम ने पकड़ा। बरेली पहुंचकर दरोगा से जुर्माने के तौर पर 3880 रुपए वसूले गए। दोपहर में टीम सियालदह एक्सप्रेस से लौट गई।

Delhi Police: Women Recruitment: 460 महिला कांस्टेबलों की होगी नियुक्ति, 25 को मिलेगा विशेष कमांडो प्रशिक्षण.....

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में अब 83,000 से अधिक पुलिसकर्मी आपकी हिफाजत करेंगे। दिल्ली पुलिस बुधवार से 6,608 नए कांस्टेबलों की नियुक्ति कर रही है। इनमें 460 महिला कांस्टेबल भी हैं। दिल्ली पुलिस में एक बार में की गई सबसे बड़ी नियुक्ति है।
यह पुलिस बल में अभी तक की सबसे बड़ी नियुक्ति है। पिछले साल अगस्त में दिल्ली पुलिस ने 351 महिलाओं समेत 5,697 नियुक्तियां की थी।

विशेष कमांडो प्रशिक्षण के लिए चुने गए 685 कांस्टेबलों में 25 महिलाकर्मी भी हैं। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के प्रशिक्षण के लिए महिलाओं को नीमेच और पुरुषों को टेकनपुर भेजा जाएगा।
अधिकारी ने बताया कि इन्हें आपराधिक घटनाओं की जांच करने, फॉरेंसिक विश्लेषण करना, साइबर क्राइम और आर्थिक अपराधों समेत अन्य चीजों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। अधिकारी ने बताया कि पहली बार ऐसा हुआ है जब महिला कांस्टेबलों को यह विशेष प्रशिक्षण दिए जा रहे हैं।
बंदूक चलाने के प्रशिक्षण के बारे में पूछने पर अधिकारी ने बताया कि कांस्टेबलों को प्वाईंट 303, प्वाईंट 38 रिवाल्वर, 9एमएम पिस्तौल, एके-47, एसएलआर और एसएएफ चलाने का प्रशिक्षण दिया गया है।

Delhi Police:साहसी सिपाही की जांबाजी पर 50 लाख रुपए का मुआवजा...

दुर्घटना को अंजाम दे चालक बस को लेकर फरार हो रहा था, लेकिन ड्यूटी पर तैनात सिपाही ने साहस का परिचय दिया और बस का पीछा किया। इस बहादुर वर्दीधारी ने बस को पकड़ ही लिया था कि बेपरवाह चालक ने गाड़ी सिपाही के ऊपर चढ़ा दी। दिल्ली ट्रेफिक पुलिस के इस हेड कांस्टेबल की उपचार के दौरान मौत हो गई। दुर्घटना और हर्जाना का मामला अदालत में पहुंचा। कोर्ट ने साहसी सिपाही की जांबाजी पर 50 लाख रुपए का मुआवजा उसके परिजनों को दिए जाने के आदेश दिए हैं। तीस हजारी स्थित एमएसीटी जज दिनेश भट्ट की अदालत ने सिपाही के डय़ूटी के प्रति समर्पण की सराहना की है। सिपाही के जज्बे को काबिलेतारीफ मानते हुए अदालत ने कहा है कि यदि वर्दीधारी समय पर उचित कदम नहीं उठाता, तो बेलगाम बस चालक ना जाने कितनी और जिंदगियों को चपेट में ले लेता।
इस हादसे में हेड कांस्टेबल समेत दो लोगों की मौत हो गईथी। जबकि एक सेंट्रो कार चालक को गंभीर चोटें आईं थीं। अदालत ने दुर्घटना में मरने वाले दूसरे व्यक्ति राहुल के परिजनों को 7 लाख रुपये की क्षतिपूर्ति देने के निर्देश भी भारती एएक्सए जरनल इंश्योरेंस कंपनी को दिए हैं। जबकि दुर्घटना में घायल पवन को 65 हजार रुपये दिए जाएंगे।
एक साथ तीन वाहनों को मारी थी टक्कर
24 जनवरी 2011 की सुबह पौने 11बजे एक निजी स्कूल की बस ने साइकिल सवार राहुल को कुचल दिया। मुकुदपुर(बुराड़ी) लालबत्ती पर तैनात ट्रेफिक पुलिस के हेड कांस्टेबल वकीलुद्दीन(34) ने बस को रोकने का प्रयास किया। बस की रफ्तार फिर भी नहीं रुकी। तेजी से दौड़ती बस ने एक सेंट्रो कार को पीछे से जबरदस्त टक्कर मारी। जिससे सेंट्रो चालक पवन गंभीर रूप से घायल हो गया। मगर जैसे ही हेड कांस्टेबल मोटरसाइकिल से बस के आगे पहुंचा, बस चालक ने उसे भी कुचल दिया।
अदालती फैसले के अहम पहलु
-34 वर्षीय मृतक ने दिखाई बहादुरी, जान की भी नहीं की परवाह।
-हेड कांस्टेबल का सर्विस रिकार्ड रहा है बेहतरीन।
-मृतक के कंधों पर थी विधवा, तीन नाबालिग बच्चाों और वृद्ध मां के भरण पोषण की जिम्मेदारी।
-मृतक की मासिक आय भी है मुआवजे का महत्वपूर्ण आधार।
-विधवा की पत्नी को नहीं मिली है नौकरी।
13 महीने की तनख्वाह के आधार पर तय हुआ मुआवजा
मृतक वकीलुद्दीन की पत्नी मुंसरीना के अधिवक्ता उपेन्द्र सिंह ने मुआवजा रकम तय करने के लिए अदालत में पुलिस की सर्विस नियमावली पेश की। जिसमें स्पष्ट किया गया था कि एक साल में पुलिसकर्मी को 13 महीने की तनख्वाह दी जाती है। इस बाबत उन्होंने दस्तावेज भी पेश किए। अदालत ने दलील को मानते हुए साल में 12 की बजाय 13 महीने की तनख्वाह को मुआवजे का आधार बनाया है।
मृतक की विधवा को अनपढ़ होने के कारण नहीं मिली नौकरी
पति वकीलुद्दीन की मौत के बाद मुंसरीना के कंधों पर तीन नाबालिग बच्चाों व वृद्ध सास के लालन-पालन की जिम्मेदारी है। मगर मुन्सरीना अनपढ़ है इसलिए विभाग ने उन्हें पति की जगह नौकरी नहीं दी है। बकौल मुंसरीना जनवरी में पति की मौत के बाद घर के आर्थिक हालात बदतर हो गए थे। उन्हें पेंशन भी नहीं मिल रही थी। ऐसे में उन्होंने रिश्तेदारों के माध्यम से पति की जगह नौकरी की मांग महकमे से की। जिसपर उन्हें जवाब मिला कि वे सिर्फ चतुर्थ श्रेणी की नौकरी करने के योग्य हैं। लेकिन पिछले 3/4 साल से चतुर्थ श्रेणी की भर्ती प्रक्रिया बंद है। इसलिए उसे नौकरी पर रखना संभव नहीं है। हालांकि पिछले महीने से उन्हें पेंशन मिलने लगी है।

Delhi Police: दिल्ली पुलिस में अभी तक की सबसे बड़ी भर्ती, शामिल होंगे कुल 6,608 कांस्टेबल

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में अब 83,000 से अधिक पुलिसकर्मी आपकी हिफाजत करेंगे। दिल्ली पुलिस बुधवार से 6,608 नए कांस्टेबलों की नियुक्ति कर रही है। इनमें 460 महिला कांस्टेबल भी हैं। दिल्ली पुलिस में एक बार में की गई सबसे बड़ी नियुक्ति है।

कुल 6,608 कांस्टेबलों में से 685 को महाराष्ट्र के नीमेच में सीमा सुरक्षा बलों, और मध्य प्रदेश के टेकनपुर में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इन सभी कांस्टेबलों को पहले से प्राथमिक कमांडो प्रशिक्षण प्राप्त है।
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इनके जुड़ने के साथ ही पुलिस बल की संख्या बढ़कर 83,762 हो जाएगी।
उन्होंने बताया कि इस नयी नियुक्ति से पुलिस बल पर से दबाव कम होगा। इनका इस्तेमाल जमीनी स्तर पर कार्यों के लिए किया जाएगा। उन्हें सीधा स्थानीय स्तर पर तैनात किया जाएगा। इससे पुलिस बल की मजबूती बढ़ेगी। अब जमीनी स्तर पर काम करने के लिए हमारे पास ज्यादा संख्या में पुलिसकर्मी होंगे।


यह पुलिस बल में अभी तक की सबसे बड़ी नियुक्ति है। पिछले साल अगस्त में दिल्ली पुलिस ने 351 महिलाओं समेत 5,697 नियुक्तियां की थी।
विशेष कमांडो प्रशिक्षण के लिए चुने गए 685 कांस्टेबलों में 25 महिलाकर्मी भी हैं। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के प्रशिक्षण के लिए महिलाओं को नीमेच और पुरुषों को टेकनपुर भेजा जाएगा।
अधिकारी ने बताया कि इन्हें आपराधिक घटनाओं की जांच करने, फॉरेंसिक विश्लेषण करना, साइबर क्राइम और आर्थिक अपराधों समेत अन्य चीजों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। अधिकारी ने बताया कि पहली बार ऐसा हुआ है जब महिला कांस्टेबलों को यह विशेष प्रशिक्षण दिए जा रहे हैं।
बंदूक चलाने के प्रशिक्षण के बारे में पूछने पर अधिकारी ने बताया कि कांस्टेबलों को प्वाईंट 303, प्वाईंट 38 रिवाल्वर, 9एमएम पिस्तौल, एके-47, एसएलआर और एसएएफ चलाने का प्रशिक्षण दिया गया है।

Saturday, September 17, 2011

KN Police: Banglore Police: मुंबई से जीती बैंगलौर पुलिस, पूरा बैंगलोर शहर होगा लंदन की तरह सीसीटीवी के दायरे में...

Karnataka government is planning to bring the entire Bangalore city, which is on terrorists' radar, under a Rs 500 crore 24x7 surveillance system for effective monitoring and also to curb crime.

The government was thinking to install CCTV cameras and high resolution night cameras in all parts of the city in the backdrop of terror strikes in Mumbai and Delhi, state Home Minister R Ashoka told reporters here.


The Centre has promised to fund the project by providing Rs 500 crore assistance, he said.

The surveillance system, when becomes operational, will help police to keep a close watch on crime, traffic violations and other incidents and track criminals, he said.

Similar system is also planned for other major cities in the state such as Mysore, Hubli and Belgaum, he said.

The police have been directed to install CCTV cameras at busy locations like city markets, bus and railway stations, Ashoka said.

He said very soon CCTVs would be installed in the High Court premises as part of measures to scale up the security as per the advise of the Centre. Lower courts in the city would get the gadets in a phased manner.

Ashoka said the state police had furnished information to the Centre on the culprits responsible for the April 17, 2010 low intensity bomb blasts near the Chinnaswamy Cricket stadium, in which five persons were injured.

"Due to security reasons, the details shared with the Centre cannot be disclosed to the press", he said.

Ashoka said high resolution cameras had been installed atop the Vidhana Sabha which will help police in maintaining a constant vigil over a three kilometre radius around the secretariat building including its annexe Vikas Soudha, high court and other places.

Friday, September 16, 2011

Mumbai Police:Police informer extorts money from bar owner in ACP’s name

A 35-year-old man, who was working as an informer for Assistant Commissioner of Police (ACP) Vasant Dhoble for the last 6 months, was arrested on Wednesday night for allegedly demanding Rs2 lakh from an Andheri-based bar owner. The accused told the bar staff that he was demanding money on behalf of Dhoble, who wanted money for his son’s higher education.

The accused has been identified as Dinesh Gunwant Tule, a resident of Goregaon (West). Earlier, he was working as an estate agent.According to the police, around 7 months ago Tule came in contact with Dhoble claiming that he has authentic information about wrongdoers. “After that Tule started spreading rumours in the bar that he works for Dhoble as his informer and threatened bar owners for the money,’’ said a police officer.


“A month ago, Tule went into Ratna and LP bar and restaurant and extorted money saying that Dhoble’s son is going to study abroad so he needs money. He took Rs 3.25 lakh from both the bar owners,” said senior inspector Pradeep Gosavi of the Andheri police station. “In the last week, Tule went to Mansi Bar and Restaurant in Andheri (East) and demanded Rs2 lakh from him.

He told the same story to bar owner Arun Shetty,” said Gosavi. “Tule also threatened that if he would not give him the money, he will face action,” said Gosavi.

The way Tule demanded money, Shetty got suspicious and called Dhoble to verify the fact. “On Wednesday around 11pm when Tule called him regarding the cash, Shetty told him to come his bar and collect the money and also informed to Dhoble. As soon as Tule reached the bar, Dhoble caught him and handed over to the Andheri police to take legal action against him,” said the police.

We have arrested Tule for extortion. There were also cases registered against him for forgery and cheating in Nagpur and Aurangabad,” said Gosavi.

KN Police: Banglore Police: पुलिस ने निकाली विदेशी चमचों की हेकड़ी, लॉ टमाटाना फेस्टिवल को कहा NO...

http://www.ndtv.com/article/cities/bangalores-tomatina-festival-cancelled-134173

La Tomatina fest cancelled: Karnataka chief minister Sadananda Gowda has instructed police in Bangalore and Mysore not to give permission for the Tomatina festival scheduled for this Sunday. In the festival, people hurl tomatoes at each other. Mr Gowda says it is not proper to treat the product of f…

TO read rest...plzz click link..

AP Police: Hyderabad Police: ट्रक में मिले 4.9 करोड़ रुपये को लेकर पुलिस के कयास जारी, कही बेल्लारी माइन्स का तो नहीं है पैसा...

Hyderabad: A court in Andhra Pradesh's Anantapur district on Friday sent two people arrested with Rs 4.9 crore cash seized from a truck to judicial custody for two weeks while police, both in Andhra and neighbouring Karnataka continued their investigations to find out whether the money belonged to the arrested mining baron G Janardhana Reddy.

The Central Bureau of Investigation (CBI) also moved the court, seeking custody of the accused for interrogation.

A team of officials of the Income Tax department from Tirupati rushed to Guntakal in Anantapur district to launch a probe into the seized cash.


The CBI joined the investigations amid speculations that the money belonged to former Karnataka minister Janardhana Reddy, who is currently in CBI custody in Hyderabad after his arrest in an illegal mining case.

The huge amount of cash was seized on Thursday from a truck, which was coming from Bellary district in Karnataka and was reportedly headed to Hyderabad.

Police arrested truck driver Venkatarami Reddy and his assistant Eswar Reddy, both hailing from Kadapa district of Andhra Pradesh.

Earlier, a police officer in Anantapur said they were still questioning the arrested men about the source and destination of the money.

Police were checking vehicles following a tip-off that the money is being shifted from Obulapuram Mining Company (OMC), owned by Janardhana Reddy.

The arrested men reportedly told police that the money belonged to OMC managing director BV Srinivasa Reddy, who along with Janardhana Reddy was arrested by the CBI in Bellary on September 05.

The CBI during the raid on Janardhana's house had seized Rs 4 crore in cash and 30 kg gold. It also seized Rs 1.5 crore from the house of Srinivasa, his brother-in-law.

"We are questioning several people but have not got any definite clues to the source of the money," a Bellary police spokesperson said by phone.

No one has been detained in Bellary, the iron-ore rich district and Reddy's political base, the spokesperson said.

"We are checking on information reportedly given by the truck driver that the money belonged to OMC managing director BV Srinivas Reddy," the spokesperson said.

The seizure of the money came a day ahead of Janardhana's elder brother G Karunakara Reddy appearing before the CBI in Hyderabad for interrogation.

His younger brother G Somashekara Reddy appeared before the CBI in Hyderabad on Thursday.

Police Policy: PM on Police: Be honest, uphold civil liberties, Manmohan Singh...

NEW DELHI: Prime Minister Manmohan Singh on Friday urged the police forces to "honestly discharge their duties" and function within the democratic framework to "scrupulously respect and uphold" civil liberties.

"Our country currently witnessed an outpouring of public anger against corruption. Life in the service of the people of India is a noble calling, particularly for those charged with the responsibility of lives and security of citizens," Manmohan Singh said at the all India conference of the directors general and inspectors general of police here.

"People who enlist themselves for such a cause must, therefore, take pride in their ability to honestly discharge their duties."

Though he did not name the anti-graft movement of Anna Hazare, who sat on a 12-day fast at Ramlila Maidan in the capital in August demanding a strong Lokpal bill, his reference to the anti-corruption protest was more than an indication.

"Crowd control techniques in a democracy, where people often rigorously vent their opinions and sometimes their frustrations, have to strike a fine balance between the requirement to maintain law and order and the imperative of using absolutely minimum non-lethal force," he said.

Noting that the Jammu and Kashmir Police, which had to deal with stone-pelting by protesters last summer, had improved their capabilities considerably in this regard, the prime minister said: "We need to be keep looking at newer methods and methodologies and technologies of handling demonstrations."


Reiterating his call made at the recent National Integration Council meeting against perceived biases, sometimes, of the law enforcement and investigation agencies against minorities, Singh said the existence of such a perception "is inimical to effective policing", which must necessarily draw upon the confidence and cooperation of all sections of the population it served.

"I would like you to consider ways and means to deal with the causes of such perception wherever they exist," he appealed.

Manmohan Singh said these were "difficult and challenging times" for the country's security forces.

"Our social fabric continues to be targeted by organised terrorism, abetted by misguided zeal and false propaganda among the youth and the marginalised sections of society," he said.

Manmohna Singh noted that the security forces had to contend with Left-wing militancy, parochial and chauvinistic movements, and tensions caused by social-economic imbalances and inequity, and also by rapid urbanisation.

"Policing the metropolitan areas, the control of organised of crime and the protection of women and the elderly require special attention," he said.

"While dealing firmly with these challenges, our police forces must function within the bounds of a democratic framework, within which the democratic rights of our people are scrupulously respected and upheld. I am sure that if our forces are led ably and guided properly, they will find themselves more than equal to the task, daunting though they are," he added.